Gujarat Exclusive > राजनीति > मास्क पर मध्य प्रदेश में मचा बवाल, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने लिया यू-टर्न

मास्क पर मध्य प्रदेश में मचा बवाल, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने लिया यू-टर्न

0
567
  • बिना मास्क नजर आए मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा
  • पत्रकारों से कहा वह मास्क कभी नहीं पहनते
  • बयान के आलोचना पर दी सफाई कहा गलती के लिए खेद प्रकट करता हूं

देश में कोरोना के बढ़ते आतंक पर काबू पाने के लिए सरकार ने कई दिशा-निर्देश जारी किया है. इन नियमों का पालन नहीं करने वाले लोगों पर भारी जुर्माना लगाया जा रहा है.

माना जा रहा है कि जब तक कोरोना का वैक्सीन नहीं बन जाता मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के जरिये ही कोरोना से बचा जा सकता है.

ऐसे में मध्य प्रदेश के गृह मंत्री एक कार्यक्रम में बिना मास्क पहुंच गए. पत्रकारों से जब उनका सामना हुआ तो उन्होंने दावा किया कि वह मास्क कभी नहीं पहनते.

नरोत्तम मिश्रा ने मानी गलती

एक जिम्मेदार नेता के इस बयान पर मध्य प्रदेश की सियासत गर्म हो गई. जिसके बाद उन्हे अपनी गलती का एहसास हुआ.

चौतरफा आलोचना होने के बाद उन्होंने ट्वीट कर अपने बयान से यू-टर्न लेते हुए कहा कि वह अब खुद मास्क पहनेंगे और लोगों से भी अपील करेंग कि लोग मास्क पहनने के साथ ही साथ सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करें.

यह भी पढ़ें: श्रम विधेयक पर राहुल गांधी का तंज, किसानों के बाद मजदूरों पर वार

 

ट्वीट कर लोगों से की अपील

नरोत्तम मिश्रा के बयान पर होने वाले हंगामा के बाद उन्होंने अपनी सफाई पेश करते हुए कहा “मास्क पहनने के बारे में मेरे बयान से कानून की अवहेलना महसूस हुई है.

यह माननीय प्रधानमंत्री जी की भावना के अनुरूप नहीं था. मैं अपनी गलती मानते हुए खेद प्रकट करता हूँ. मैं स्वयं भी मास्क पहनूंगा.

समाज से भी अपील करूंगा कि सभी मास्क पहनें और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करें.”

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश विधानसभा सत्र के दौरान वह सदन की कार्यवाही में बिना मास्क हिस्सा लिया था. उस दौरान भी विवाद पैदा हुआ था.

इस मामले पर कांग्रेस राज्य सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि सीएम शिवराज सिंह चौहान मास्क लगाने दो गज की दूरी की वकालत करते हैं.

लेकिन गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा इन नियमों का पालन कब करेंगे?

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

दिल्ली दंगा के गवाह का दावा, भड़काऊ भाषण की वजह से भड़की थी हिंसा