Gujarat Exclusive > देश-विदेश > ब्रिटेन में तेजी से फैल रहा कोरोना का नया स्ट्रेन भारत में अब तक नहीं मिला

ब्रिटेन में तेजी से फैल रहा कोरोना का नया स्ट्रेन भारत में अब तक नहीं मिला

0
82

दुनिया में कोरोना के नए रूप (New Corona) को लेकर दहशत का माहौल है. ब्रिटेन में नया स्ट्रेन (New Corona) मिलने से कई यूरोपिय देशों ने एहतियात बरतना शुरू कर दिया है. इसी बीच कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन (New Corona) पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके जानकारी दी है. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, ब्रिटेन में तेजी से फैल रहे कोरोना के नए रूप का कोई भी मामला अब तक भारत में देखने को नहीं मिला है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया, जो वैक्सीन अभी डेवलप हो रहे हैं म्यूटेशन से उसपर कोई असर नहीं होगा, यानी म्यूटेशन के बावजूद वैक्सीन कारगर होगी. चिंता की बात नहीं है और पैनिक की भी जरूरत नहीं है. हमारे देश मे म्यूटेशन का कोई सिग्नल नहीं देखा गया है.”

यह भी पढ़ें: जनवरी-फरवरी में नहीं होंगी CBSE बोर्ड की परीक्षाएं, शिक्षा मंत्री ने दी जानकारी

सरकार ने कहा, ”ब्रिटेन में पहचाने गए सार्स-सीओवी-2 के नए प्रकार (New Corona) में संक्रमण अधिक तेजी से फैलाने की क्षमता है लेकिन यह बीमारी की गंभीरता और मौत के मामलों को प्रभावित नहीं कर रहा है. चिंता करने का कोई कारण नहीं है लेकिन सतर्क रहना होगा.”

वायरस सुपर स्प्रेड़र बना- नीति आयोग

नीति आयोग के सदस्य वी के पॉल का नए वायरस स्ट्रेन (New Corona) को लेकर कहा कि वायरस में बदलाव होते रहते हैं, लेकिन हर बदलाव मायने नहीं रखता. लेकिन अभी जो बदलाव हैं उसमें 17 बदलाव हैं. हमारे सेल में एंट्री करने की क्षमता इसमें ज़्यादा है. इसकी संक्रामकता ज़्यादा है. ऐसा भी कहा जाता है कि ये वायरस सुपर स्प्रेड़र बन गया है. लेकिन अहम बात है कि इससे बीमारी की गंभीरता नहीं बढ़ रही, hospitalization नहीं बढ़ाता और मौत नहीं बढ़ाता.

अभी नहीं हुआ बेकाबू, रोका जा सकता- WHO

बता दें कि नए स्ट्रेन के मामले तेजी से बढ़ने के बाद भारत ने ब्रिटेन से आने वाली सभी फ्लाइट्स पर रोक लगा दी है. इस बीच, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा कि ब्रिटेन में पाया गया कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन अभी नियंत्रण से बाहर नहीं है और मौजूदा उपायों के जरिए इस पर काबू पाया जा सकता है. संगठन के स्वास्थ्य आपात काल प्रमुख माइक रायन ने जिनेवा में एक प्रेस वार्ता में बताया, “स्थिति काबू से बाहर नहीं है लेकिन इसे अपने पर छोड़ा भी नहीं जा सकता है.”

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें