Gujarat Exclusive > देश-विदेश > निर्भया केस: दोषी पवन ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की क्यूरेटिव याचिका, एक बार फिर से टल सकती है फांसी

निर्भया केस: दोषी पवन ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की क्यूरेटिव याचिका, एक बार फिर से टल सकती है फांसी

0
228

निर्भया मामले के दोषियों की फांसी की सजा जैसे-जैसे नजदीक आती जा रही है वैसे वैसे ही आरोपियों को डर और ही बढ़ता जा रहा है मौत का दिन करीब आते ही निर्भया के गुनहगार सजा से बचने के लिए नए तिकड़म अपना रहे हैं. ऐसे में एक बार फिर से दोषियों की डेथ वारंट टल सकती है, क्योंकि दोषी पवन कुमार गुप्ता ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव याचिका दायर कर फांसी की सजा को आजीवन कारावास में बदलने की मांग की है. वहीं, बाकी तीन दोषियों अक्षय, विनय, मुकेश की क्यूरेटिव और राष्ट्रपति के समक्ष दायर की गई दया याचिका पहले ही खारिज हो चुकी है.

बता दें कि इससे पहले निर्भया गैंगरेप केस के दोषियों में से एक पवन गुप्ता ने पिछले दिनों कोर्ट द्वारा नियुक्त अपने कानूनी सलाहकार रवि काजी से मिलने से इनकार कर दिया था. तीसरा डेथ वारंट जारी होने के बाद पवन कुमार के पास लंबित कानूनी उपायों के संबंध में उससे कोई बात नहीं हो पाई थी. पवन के साथ अन्य दोषी विनय शर्मा, मुकेश सिंह, अक्षय कुमार सिंह को एक साथ 3 मार्च की सुबह 6 बजे तिहाड़ जेल में फांसी दी जानी है.

निर्भया के दोषियों को फांसी पर चढ़ाने के लिए तीसरा डेथ वारंट जारी हो चुका है. इससे पहले दोषियों की फांसी के लिए 22 जनवरी और 1 फरवरी को डेथ वारंट जारी किया गया था. इस मामले में तीन अन्य दोषी विनय शर्मा, मुकेश सिंह, अक्षय कुमार सिंह के पास सभी कानूनी विकल्प खत्म हो चुके हैं. पवन के पास अभी भी दया याचिका और क्यूरेटिव पिटीशन का विकल्प बचा है, जिसमें से उसने शुक्रवार को क्यूरेटिव पिटीशन दायर कर ली है. इसके लिए कोर्ट ने दोषी को कानूनी मदद देने के लिए रवि काजी को कानूनी सलाहकार नियुक्त किया है.