Gujarat Exclusive > देश-विदेश > निर्भया केस में दोषियों के डेथ वारंट पर रोक लगाने की मांग, तिहाड़ जेल को नोटिस जारी

निर्भया केस में दोषियों के डेथ वारंट पर रोक लगाने की मांग, तिहाड़ जेल को नोटिस जारी

0
214

दिल्ली के निर्भया गैंगरेप और हत्या के मामले में तारीखों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. इस सिलसिले में चारों दोषियों की फांसी के लिए डेथ वारंट पर रोक लगाने की मांग पर पटियाला हाउस कोर्ट ने तिहाड़ जेल प्रशासन को नोटिस जारी किया है. सोमवार को सुबह 10 बजे पटियाला हाउस कोर्ट इस मामले की सुनवाई करेगा. अक्षय के वकील एपी सिंह ने कोर्ट को बताया कि अक्षय की कम्पलीट मर्सी पिटीशन (दया याचिका) फाइल की है. कोर्ट ने कहा कि आपको पहले ही पूरी पिटीशन फाइल करनी चाहिए थी. जज ने कहा कि मुझे नहीं पता कि कम्पलीट पिटीशन है या इन कम्पलीट है, आपकी ये दूसरी मर्सी है.

वहीं तिहाड़ जेल के वकील ने मामले को लटकाने की कोशिश का आरोप लगाया. एपी सिंह ने कोर्ट को बताया कि वे फिर से दोषी पवन की तरफ से वकील होंगे. उन्होंने पवन की क्यूरेटिव पिटीशन सुप्रीम कोर्ट में दाखिल करने की भी जानकारी दी. तिहाड़ जेल के वकील ने कहा कि एडवोकेट रवि काजी को यह सूचित नहीं किया गया कि उन्हें पवन की तरफ से बहस नहीं करना है.

दिल्ली के निर्भया गैंगरेप और हत्या के मामले में दोषी अक्षय ने नई चाल चली है. अक्षय ने एक बार फिर राष्ट्रपति को दया याचिका भेजी है. राष्ट्रपति अक्षय की ओर से पहले भेजी गई दया याचिका खारिज कर चुके हैं. अक्षय के वकील एपी सिंह का कहना है कि राष्ट्रपति ने जो दया याचिका खारिज की थी वह अधूरी थी. इसलिए दोबारा दया याचिका लगाई गई है.

इससे पहले दिल्ली के निर्भया गैंगरेप और हत्या के मामले में दोषी पवन गुप्ता ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव याचिका दाखिल की. तीन मार्च को निर्भया के चारों दोषियों को फांसी होनी है. पवन ने तीन दिन बाद होने वाली फांसी पर रोक लगाने की मांग की है. बाकी तीन दोषियों अक्षय, विनय, मुकेश की क्यूरेटिव याचिकाएं और राष्ट्रपति के समक्ष दायर की गई दया याचिकाएं पहले ही खारिज हो चुकी हैं. पवन ने अभी तक दया याचिका भी नहीं लगाई है.