Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > वित्त मंत्री ने किया ‘आत्मनिर्भर भारत 3.0’ का ऐलान, 15000 से कम सैलरी वालों को मिलेगा लाभ

वित्त मंत्री ने किया ‘आत्मनिर्भर भारत 3.0’ का ऐलान, 15000 से कम सैलरी वालों को मिलेगा लाभ

0
445

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने गुरुवार को अर्थव्यवस्था (Economic) सुधार को लेकर आर्थिक पैकेज ‘आत्मनिर्भर भारत 3.0’ का ऐलान किया. इस पैकेज के तहत आत्मनिर्भर भारत रोजगार योजना की घोषणा हुई है, जिससे कि कोविड रिकवरी फेज़ के तहत नई नौकरियां पैदा हों. संगठित क्षेत्र में ईपीएफओ में रजिस्टर्ड कंपनियों में 15,000 से कम सैलरी पर भी रखे जाने वाले नए कर्मचारियों को भी इसका लाभ मिलेगा. इसका लाभ कर्मचारी एक अक्टूबर से उठा पाएंगे.

वित्त मंत्री (Nirmala Sitharaman) ने बताया है कि अब देश की अर्थव्यवस्था में तेजी से सुधार हो रहा है. देश में इस बार जीएसटी का कलेक्शन दस फीसदी बढ़ा है. साथ ही वित्त मंत्री ने बताया कि देश में अब निवेश में भी बढोत्तरी हो रही है.

यह भी पढ़ें: पीपीई किट पहने ऑस्ट्रेलिया दौरे पर रवाना हुई टीम इंडिया, 27 नवंबर से शुरू होगी सीरीज

वित्त मंत्री सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने कहा,

‘’मूडीज ने देश की जीडीपी में सुधार की बात कही है. अब मूडीज ने देश की जीडीपी -8.9 फीसदी तक रहने की बात की है. अब विदेश मुद्रा में भी इजाफा देखने को मिल रहा है.’’

इस दौरान उन्होंने बताया है कि अर्थव्यवस्था की हालत में बहुत सुधार हुआ है. कोरोना वायरस के सक्रिय मामले 10 लाख से घटकर 4.89 लाख हो गए हैं. कोरोना वायरस की मृत्य दर भी घटकर 1.47% हो गई है.

इमरजेंसी क्रेडिट लाइन 31 मार्च तक बढ़ी

वित्त मंत्री (Nirmala Sitharaman) ने कहा कि पहले चरण में घोषित Emergency Credit Line Guarantee Scheme (ECLGS 1.0) को 31 मार्च, 2021 तक बढ़ाया जा रहा है. यह स्कीम पूरी तरह से सुरक्षित गारंटी देती है और कॉलेटरल फ्री है. यह स्कीम दबाव में चल रहे सेक्टरों को राहत देने लॉन्च की गई थी. कामत समिति की ओर से जिन 26 सेक्टरों की पहचान की गई है, उन्हें इसके तहत मदद दी जाएगी. इस पैकेज के तहत शहरी पीएम आवास योजना के तहत 18,000 करोड़ के व्यय और 18 लाख घरों को पूरा करने की योजना है.

किसान क्रेडिट कार्ड के लिए 1.83 करोड़ आवेदन

किसान क्रेडिट कार्ड को लेकर वित्त मंत्री ने कहा, \

अबतक एक करोड़ 83 लाख 14 हजार से ज्यादा आवेदन रिसीव किए गए हैं. उसमें बैंकों ने एक करोड़ 57 लाख 44 हजार से ज्यादा किसान क्रेडिट कार्ड को सही पाया है. और कुल मिलाकर एक लाख 43 हजार 262 करोड़ रुपए दो चरणों में किसानों को दिए गए हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें