Gujarat Exclusive > गुजरात > ना नौकरी बची…ना घर जा पाया, तालाबंदी से परेशान प्रवासी मजदूर ने की आत्महत्या

ना नौकरी बची…ना घर जा पाया, तालाबंदी से परेशान प्रवासी मजदूर ने की आत्महत्या

0
785

लॉकडाउन के कारण नौकरी गंवा देने वाले असम के 20 वर्षीय एक प्रवासी मजदूर ने गुजरात के सूरत जिले की एक झुग्गी-बस्ती में बुधवार को कथित तौर पर आत्महत्या कर ली. पांडेसरा पुलिस थाने के निरीक्षक डी के पटेल ने बताया कि सुनील रिजाजगन महली को सुबह भेस्तान इलाके में घर की छत से लटकता हुआ पाया गया.

इन्स्पेक्टर डी के पटले ने कहा, ‘मृतक असम के अन्य मजदूरों के साथ रह रहा था. लॉकडाउन के कारण उसकी नौकरी चली गई थी और अन्य लोगों के साथ वह अपने गृह राज्य भी नहीं जा सका था. उन्होंने कहा कि आत्महत्या का सही कारण का पता लगाने के लिए जांच की जा रही है लेकिन प्रथम दृष्टया ऐसा प्रतीत होता है कि लॉकडाउन के कारण नौकरी चली जाने और अपने गृह राज्य वापस नहीं जा पाने के कारण वह अवसादग्रस्त था.

गौरतलब हो कि गुजरात में लगातार प्रवासी मजदूर घर वापसी की मांग को लेकर हंगामा कर रहे हैं. गुजरात के सूरत, राजकोट और अहमदाबाद में कई बार प्रवासी मजदूर एक जगह जमा होकर हंगामा भी किया. कुछ प्रवासी मजदूर जहां घर पहुंच गए है वहीं कुछ लोग आज भी देश के अलग-अलग हिस्सों में फंसे हुए हैं और घर वापसी की मांग कर रहे हैं.

कांग्रेस के व्हाट्सअप ग्रूप में अश्लील वीडियो का मामला, डालने वाले ने विपक्ष पर साजिश का लगाया आरोप