Gujarat Exclusive > देश-विदेश > राहुल से नोबेल विजेता मुहम्मद यूनुस ने कहा- कोरोना ने दिया हमें संभलने का मौका

राहुल से नोबेल विजेता मुहम्मद यूनुस ने कहा- कोरोना ने दिया हमें संभलने का मौका

0
719

कोरोना संकट के इस दौर में भारतीय अर्थव्यवस्था को एक बार फिर से कैसे पटरी पर लाया जा सकता है. इस मामले को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार जानकारों से अलग-अलग मुद्दों पर बातचीत कर रहे हैं.

इसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए आज उन्होंने बांग्लादेश के प्रख्यात अर्थशास्त्री और बांग्लादेश ग्रामीण बैंक के संस्थापक मुहम्मद युनूस से कोरोना संकट के दौर में एक बार फिर से कैसे पटरी पर लाने को लेकर बातचीत की.

बातचीत का वीडियो ट्विटर अकाउंट पर किया अपलोड 

नोबेल पुरस्कार विजेता मुहम्मद यूनुस के साथ होने वाली बातचीत को लेकर राहुल ने ट्वीट कर लिखा-ग्रामीण बैंक के संस्थापक और नोबेल शांति पुरस्कार विजेता प्रो मुहम्मद यूनुस के साथ बातचीत आप मेरे YouTube चैनल पर देख सकते हैं.

यह भी पढ़ें: केजरीवाल ने दिया दिल्लीवासियों को बड़ा तोहफा, डीजल 8 रुपये 36 पैसे किया सस्ता

कोरोना ने समाज की कुरीतियों को उजागर किया 

राहुल गांधी और मुहम्मद यूनुस के साथ होने वाली बातचीत में जोर दिया गया कि गांव में अर्थव्यवस्था को कैसे खड़ा की जाए और शहरों में नहीं बल्कि लोगों को गांव में ही नौकरी दी जाए.

बातचीत का सिलसिला आगे बढ़ने के बाद मुहम्मद यूनुस ने कहा कि कोरोना ने समाज की कुरीतियों को भी उजागर कर दिया है. गरीब, प्रवासी मजदूर हमारे साथ रहते हैं.

लेकिन कोरोना ने इन्हे सभी के सामने ला दिया. ऐसे लोगों को अनौपचारिक हिस्सा माना जाता है.

लेकिन यही लोग देश की अर्थव्यवस्था का एक अहम हिस्सा बन सकते हैं और इस वर्ग के लोगों की मदद से देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाया जा सकता है.

लेकिन हम आज भी गरीब और प्रवासी मजदूरों को समाज का अनौपचारिक हिस्सा ही मान रहे हैं.

गांव अर्थव्यवस्था को खड़ा करने का दिया जोर

राहुल गांधी से बातचीत करते हुए नोबेल पुरस्कार विजेता मुहम्मद यूनुस ने कहा कि छोटे मजदूरों और कारोबारियों के पास काफी क्षमता है लेकिन सरकार इनको अर्थव्यस्था की हिस्सा ही नहीं मानती.

उन्होंने कहा कि पश्चिमी देशों का पालन किया जा रहा है गांव के लोगों को शहरों में नौकरियां करने के लिए भेजा जा रहा है.

पहले शहरों में ढांचा था लेकिन वही ढांचा अब गांवों में मौजूद है बावजूद इसके बड़ी संख्या में लोग गांवों से पलायन कर शहरों की ओर आ रहे हैं.

उन्होंने कहा कि कोरोना ने हमें बहुत कुछ नया करने का मौका दिया है इस मौके का फायदा हमें उठाना चाहिए.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

UP में ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करना अब पड़ेगा भारी, बढ़ाई गई जुर्माना राशि