Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > कोरोना से पनपे वित्तीय संकट से निपटने के लिए आरबीआई ने निर्गत किए एक लाख करोड़

कोरोना से पनपे वित्तीय संकट से निपटने के लिए आरबीआई ने निर्गत किए एक लाख करोड़

0
256

कोरोना वायरस की वजह से देश को वित्तीय संकट का सामना ना करने पड़े इसको लेकर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने एक खास फैसला लिया है. कोरोना के वजह से आवागमन पर व्यापक पाबंदी के कारण वित्तीय बाजारों पर पड़ रहे दबाव के बीच रिजर्व बैंक ने बैंकिंग तंत्र में एक लाख करोड़ रुपये अतिरिक्त धन छोड़ने की घोषणा की है. साथ ही आरबीआई ने कहा है कि जरूरत पड़ने पर वह इस तरह के कदम आगे भी उठाएगा.

बैंक ने सोमवार को कहा, ‘सरकारी प्रतिभूतियों की दीर्घ कालिक खरीद की व्यवस्था (सावधि रीपो) के तहत वह इसमें से 50,000 करोड़ रुपये की पहली किस्त को सोमवार को जारी कर दी गई है. इतनी ही राशि की दूसरी किस्त को मंगलवार को उपलब्ध कराई जाएगी.’

रिजर्व बैंक ने जारी किए गए एक वक्तव्य में कहा है कि किसी भी नकद धन की जरूरत को पूरा करने के लिए पहले से ही उपाय किए जा रहे हैं और कोरोना वायरस की वजह से किसी भी तरह की तंगी को दूर करने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है.

रिजर्व बैंक ने इसके लिए एक लाख करोड़ रुपये की परिवर्तनीय रीपो दर नीलामी करने का फैसला किया है. बैंक ने कहा है कि उसकी यह पहल बैंकों को सस्ती दर पर धन उपलब्ध कराना है. इससे बैंकिंग प्रणाली में नकदी की उपलब्धता सुनिश्चित होगी. केन्द्रीय बैंक ने कहा है कि विशेष मामले के तहत अन्य पात्र भागीदारों के साथ ही प्राथमिक डीलरों को भी इन नीलामियों में भाग लेने की अनुमति दी जाएगी.

मालूम हो कि कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप की वजह से देश के कई हिस्सों में तालाबंदी की स्थिति है. अब तक देश में 492 मामलों की पुष्टि हो चुकी है. इस दौरान 9 लोगों की मौत भी हो चुकी है. गुजरात, महाराष्ट्र और पंजाब ने अपने-अपने राज्यों में पूरी तरह से पाबंदी लगा दी है.

कोरोना के कारण पूरे देश में तालाबंदी जैसे हालात, संक्रमित लोगों की संख्या 500 के करीब पहुंची