Gujarat Exclusive > देश-विदेश > व्हिस्की की रिकॉर्ड-ब्रेकिंग ऑनलाइन नीलामी पर साइबर हमला, रोकी गई बोली

व्हिस्की की रिकॉर्ड-ब्रेकिंग ऑनलाइन नीलामी पर साइबर हमला, रोकी गई बोली

0
1542

दुनिया में जारी कोरोना संकट के बीच साइबर क्राइम भी चरम पर है. अब तो आलम ये है कि अपराधी ऑनलाइन नीलामी पर भी साइबर हमला कर रहे हैं. खबर है कि वेबसाइट पर साइबर हमले के बाद दुर्लभ व्हिस्की की एक रिकॉर्ड-ब्रेकिंग ऑनलाइन नीलामी स्थगित कर दी गई है. रिचर्ड गुडिंग का “द परफेक्ट कलेक्शन” सार्वजनिक बिक्री के लिए पेश किया जाने वाला “सबसे बड़ा निजी व्हिस्की संग्रह” है. पहले दौर की नीलामी में 1,900 बोतलों के लिए 3.9 मिलियन डॉलर (27.7 करोड़ रुपये) की कमाई हुई थी. इसके बाद 1,958 बोतलों के लिए दूसरे दौर की बोली लगाने के एक दिन बाद ही नीलामी पर साइबर हमला हो गया जिससे नीलामी को स्थगित करनी पड़ी.

व्हिस्की के बारे में अक्सर कहा जाता है कि वो जितनी पुरानी हो, वो उतनी ही अच्छी होती है लेकिन शराब जितनी पुरानी होती है उसकी कीमत भी उतनी ही ज्यादा हो सकती है. यही वजह है कि पुरानी शराब की नीलामी भी की जाती है. इस नीलामी में जिस बोतल की बोली लगाई जा रही है वो 60 साल पुरानी मैकलेन 1926 फाइन एंड रेयर व्हिस्की नीलामीकर्ता द्वारा दो हजार बोतलों में से एक है. इसकी पहली करीब दो हजार बोतलें पिछले साल दिसंबर में बेची गई थीं. इस पूरी नीलामी प्रक्रिया के दौरान तकरीबन 67 करोड़ से लेकर 77 करोड़ रुपये तक आने की उम्मीद है जो कि अपने आप में एक अद्भुत रिकॉर्ड होगा.

कोलोराडो के एक निजी कलेक्टर मिस्टर गुडिंग ने व्हिस्की की 4000 बोतलों का संग्रह किया था और कहा जाता है कि नीलामी होने वाला यह अपनी तरह का सबसे बड़ा क्लेक्शन है. इसमें द मैकलेन बोवमोर और स्प्रिंगबैंक डिस्टिलरीज की दुर्लभ बोतलें शामिल हैं. मिस्टर गुडिंग डेनवर के पेप्सी बॉलिंग कंपनी के पूर्व मालिक और अध्यक्ष थे.

साल 2014 में मिस्टर गुडिंग की मौत के बाद उनके परिवार ने व्हिस्की नीलामीकर्ता के साथ दो अलग-अलग नीलामी में संग्रह को बेचने का बंदोबस्त किया था. दिसंबर 2019 में हुई पहली नीलामी में 56 देशों के 1600 से ज्यादा लोगों ने इस बोली में हिस्सा लिया थी. इस नीलामी में व्हिस्की की दुर्लभ बोतलें लगभग 31 करोड़ रुपये में बिकी थीं.

Corona Live Update: भारत में बीते 24 घंटों में 48 की मौत, देश के 8 प्रदेश कोरोना मुक्त