Gujarat Exclusive > देश-विदेश > महाराष्ट्र में आज से खुले सभी धार्मिक स्थल, कोरोना दिशा-निर्देशों का करना होगा पालन

महाराष्ट्र में आज से खुले सभी धार्मिक स्थल, कोरोना दिशा-निर्देशों का करना होगा पालन

0
185

महाराष्ट्र में कोरोना के बढ़ते आंतक के बीच मंदिरों के कपाट को खोलने की मांग को लेकर भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पिछले दिनों जमकर हंगामा किया था. Open Religious Places

भाजपा कार्यकर्ताओं ने उद्धव ठाकरे सरकारे के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की थी. महाराष्ट्र में धार्मिक स्थलों को खोलने के मामले को लेकर सीएम उद्धव और राज्यपाल के बीच तल्खियां भी बढ़ गई थी.

लेकिन अब जानकारी सामने आ रही है कि महाराष्ट्र में आज से सभी धार्मिक स्थल दोबारा खुल जाएंगे. Open Religious Places

8 महीने बाद महाराष्ट्र में आज से खुल गए धार्मिक स्थल

महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने ऐलान किया कि राज्य में मौजूद तमाम धार्मिक स्थल 8 महीने के बाद फिर से खोल दिए गए हैं.

लेकिन इस दौरान लोगों को कोरोना के नियमों का सख्ती से पालन करना होगा.

इतना ही नहीं तमाम धार्मिक स्थल के मुख्य दरवाजा पर हैंड सैनिटाइजर और स्क्रीनिंग की व्यवस्था की जाएगी इतना ही नहीं बिना मास्क किसी को भी धर्मिक स्थल पर एंट्री नहीं दी जाएगी.

यह भी पढ़ें: भारत में कोरोना के नए मामलों में भारी गिरावट, 30 हजार से ज्यादा नए मामले दर्ज

सीएम ने दिशा-निर्देशों का पालन करने की अपील

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दीपावली की लोगों को शुभकामनाएं देते हुए कहा‘‘ कोरोना के नए मामलों में भले ही कमी दर्ज की जा रही है. Open Religious Places

लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि कोरोना वायरस रूपी दैत्य आज भी हमारे बीच है. कोरोना के खतरे से इनकार नहीं किया जा सकता इसलिए हम ढिलाई नहीं बरत सकते.

इस मौके पर उन्होंने लोगों को कोरोना नियमों का पालन करने की भी अपील की.’’

मुख्यमंत्री और राज्यपाल के बीच हुआ था बवाल Open Religious Places

भारतीय जनता पार्टी राज्य भर में मंदिर खोलने के लिए सांकेतिक भूख हड़ताल कर रही है.

इसपर राज्यपाल ने अपने पत्र में मुख्यमंत्री के हिंदुत्व पर सवाल उठाते हुए पूछा है कि ‘क्या आप अचानक से सेक्युलर हो गए?’

इसपर मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से एक जवाब भेजा गया है, जिसमें उद्धव ठाकरे ने कहा है कि ‘पत्र में मेरे हिंदुत्व का उल्लेख करना गलत है. हिंदुत्व के लिए मुझे आपके सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है.

इतना ही नहीं राज्यपाल के इस पत्र ने सियासी रंग भी ले लिया था. Open Religious Places

एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने इस मामले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर राज्यपाल के पत्र की भाषा पर ऐतराज जताया था.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अहमदाबाद में कोरोना के नए मामलों में वृद्धि, सिविल अस्पताल में 3 नए वार्ड शुरू