Gujarat Exclusive > राजनीति > राष्ट्रपति से मिले विपक्षी दल के नेता, कृषि कानून को रद्द करने की मांग

राष्ट्रपति से मिले विपक्षी दल के नेता, कृषि कानून को रद्द करने की मांग

0
130

मोदी सरकार के मसौदा प्रस्ताव को किसानों ने खारिज कर दिया है. इस बीच आंदोलन कर रहे किसानों की बात रखने विपक्षी दलों का एक प्रतिनिधिमंडल आज शाम रामनाथ कोविंद से मुलाकात करने के लिए राष्ट्रपति भवन पहुंचा. Opposition met president

इस प्रतिनिधिमंडल में कांग्रेस सांसद राहुल गांधी, एनसीपी प्रमुख शरद पवार, सीपीएम नेता सीताराम येचुरी, सीपीआई महासचिव डी राजा और डीएमके नेता टी के एस इलेनगोवन का नाम शामिल है.

विपक्ष ने कानून रद्द करने की किया मांग

राष्ट्रपति से मुलाकात करने के बाद विपक्षी दल के नेताओं ने जोर देते हुए कहा कि इस कानून को वापस लेना चाहिए.

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने राष्ट्रपति से मुलाकात करने के बाद कहा कि कानून की वजह से किसानों में नाराजगी दिखाई दे रही है. सरकार को कृषि कानून को सिलेक्ट कमेटी के पास भेजना चाहिए.

राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने कहा कि इस कानून को वापस लेना होगा क्योंकि किसानों की शक्ति के सामने कोई खड़ा नहीं हो सकता.

सरकार बिना चर्चा किए इस कानून को लागू किया है. Opposition met president

किसान सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज  Opposition met president

सरकार के मसौदा को लेकर किसान संगठनों के सभी नेताओं ने एक अहम बैठक की. इस बैठक में सभी किसानों ने एक मत होकर केंद्र सरकार द्वारा भेजे गये प्रस्ताव को ठुकरा दिया है.

14 तारीख को किसान धरना देने का ऐलान कर दिया है. इतना ही नहीं किसानों ने कहा कि अब हम अपना आंदोलन तेज कर देंगे. 12 तारीख को टोल प्लाजा का घेराव किया जाएगा.

इतना ही नहीं किसान नेताओं ने भाजपा मंत्रियों का घेराव करने का भी ऐलान किया है. Opposition met president

गृह मंत्री अमित शाह के साथ होने वाली बैठक भी बेनतीजा Opposition met president

कृषि मंत्री और अन्य केंद्रीय मंत्रियों के साथ किसानों की बातचीत बेनतीजा साबित रही जिसके बाद गृह मंत्री अमित शाह ने कल खुद मोर्चा संभाला था.

कल शाम शाह ने किसान नेताओं के साथ बैठकर सरकार की ओर से मसौदा प्रस्ताव भेजने की जानकारी दी थी. President met opposition

इतना ही नहीं उन्होंने बैठक में साफ कर दिया था कि सरकार कानून को किसी भी सूरत में वापस नहीं लेगी.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

किसानों ने सरकार के प्रस्ताव को ठुकराया, कानून रद्द करने की मांग पर अड़े