Gujarat Exclusive > देश-विदेश > ब्रिटेन में ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल को मिली मंजूरी

ब्रिटेन में ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल को मिली मंजूरी

0
271

ब्रिटेन में फैले कोरोना के नए रूप के आतंक के बीच एक अच्छी खबर सामने आई है. ब्रिटेन ने ऑक्सफोर्ड द्वारा तैयार कोरोना की वैक्सीन (Oxford Covid-19 Vaccine) के इस्तेमाल की मंजूरी दे दी गई है. इस वैक्सीन को अब हरी झंडी मिलने के साथ ही ब्रिटेन में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका कोविड-19 वैक्सीन (Oxford Covid-19 Vaccine) लोगों को दी जा सकेगी. ब्रिटेन ने हाल ही में फाइजर की कोरोना वैक्सीन को मंजूरी दी थी.

अब ब्रिटेन ने ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन (Oxford Covid-19 Vaccine) को भी मंजूरी दे दी है. आम लोगों को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका कोविड-19 वैक्सीन देने की शुरुआत ब्रिटेन में जल्द की जाएगी. ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन (Oxford Covid-19 Vaccine) को मंजूरी देने वाला भी ब्रिटेन दुनिया में पहला देश है.

यह भी पढ़ें: श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच 15 घंटे चली मुठभेड़, 3 दहशतगर्द ढेर

बड़े पैमाने पर शुरू होगा टीकाकरण

अब ब्रिटेन में टीकाकरण अभियान में बड़े पैमाने पर विस्तार देखा जाएगा. इसके साथ ही यूके ने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन (Oxford Covid-19 Vaccine) के 10 करोड़ डोज के ऑर्डर दिए हैं, जो कि 5 करोड़ लोगों को वैक्सीन देने के लिए पर्याप्त हैं. इससे पहले दवा कंपनी फाइजर-बायोएनटेक की कोविड-19 वैक्सीन को मंजूरी देने वाला ब्रिटेन पहला देश बना था. अब तक करीब सात लाख से अधिक लोगों को फाइजर वैक्सीन की पहली डोज दी जा चुकी है.

स्टोरेज होगी आसान

ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन (Oxford Covid-19 Vaccine) की खासियत यह है कि इसको एक सामान्य फ्रिज में भी रखा जा सकता है. संग्रहण के मामले में ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन फाइजर की वैक्सीन से अलग है. फाइजर की वैक्सीन को माइनस 70 डिग्री तापमान पर रखा जाना जरूरी होता है. ऐसे में ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन को कहीं पर भी हासिल करने में आसानी होगी.

भारत में मंजूरी का इंतजार

ब्रिटेन की मंजूरी के बाद भारत में उम्मीदें बढ़ गई है, क्योंकि यहां इस्तेमाल के लिए अप्रूवल की लाइन में ऑक्सफोर्ड की कोरोना वैक्सीन सबसे आगे खड़ी है. भारत में भी अगले हफ्ते तक ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत मिल सकती है. भारत में इस वैक्सीन को ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के साथ मिलकर सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) बना रही है. सीरम इंस्टीट्यूट ने भारत में इसके आपात इस्तेमाल के लिए सरकार के पास अर्जी दी है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें