Gujarat Exclusive > देश-विदेश > नहीं होगा संसद का शीतकालीन सत्र, कोरोना के प्रकोप के कारण फैसला

नहीं होगा संसद का शीतकालीन सत्र, कोरोना के प्रकोप के कारण फैसला

0
199

देश में बेशक कोरोना के नए मामलों के आने का सिलसिला थोड़ा कम हुई है लेकिन हालात काबू में अभी भी नहीं आए हैं. इसी को ध्यान में रखते हुए संसद का शीतकालीन सत्र (Parliament Winter Session) इस बार नहीं बुलाया जाएगा. सरकार ने ऐलान किया है कि कोविड-19 के कारण इस बार संसद के शीतकालीन सत्र (Parliament Winter Session) का आयोजन नहीं किया जाएगा.

संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा है कि सभी पक्ष सत्र (Parliament Winter Session) को रोकने पर सहमत हैं. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रसार से बचने के लिए शीतकालीन सत्र (Parliament Winter Session) के पक्ष में कोई नहीं था. ऐसे में जनवरी में सीधे बजट सत्र बुलाया जाएगा.

यह भी पढ़े: पिछले 5 महीन में कोरोना मामलों में सबसे बड़ी गिरावट, देश में 22 हजार नए मरीज मिले

अधीर रंजन ने की थी मांग

बता दें कि कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी की तरफ से एक चिट्ठी में सत्र (Parliament Winter Session) बुलाने की मांग की गई थी. अब जोशी ने चौधरी की चिट्ठी का जवाब दिया है. संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीररंजन चौधरी को पत्र लिखकर बताया है कि सभी दलों के नेताओं से चर्चा के बाद आम राय बनी थी कि COVID-19 महामारी के चलते सत्र (Parliament Winter Session) नहीं बुलाया जाना चाहिए. खत में लिखा गया है कि संसद का बजट सत्र जनवरी, 2021 में आहूत किया जाएगा.

देश में कोरोना का हाल

मालूम हो कि भारत में कोरोना (India Covid-19) का प्रकोप अभी भी थमा नहीं है और कुल मामले एक करोड़ के करीब पहुंच गए हैं. पिछले 24 घटों में देश में कोरोना वायरस (India Covid-19) के 22 हजार 65 नए मामले सामने आए हैं. पिछले पांच महीनों में ये आंकड़ा सबसे कम है. वहीं बीते 24 घंटे में 354 लोगों की मौत हुई है. इसी के साथ कोरोना (India Covid-19) संक्रमण के कुल मामले 99,06,165 354 पहुंच गए हैं. देश में वायरस की वजह से अब 1.43 लाख मरीज़ों की जान जा चुकी है.

इस समय भारत में संक्रमण से ठीक होने की दर यानी रिकवरी रेट 94.98% जबकि मृत्यु दर 1.45% है. बीते 24 घंटे में कोरोना (India Covid-19) से कुल 34 हजार 477 लोग डिस्चार्ज हुए हैं जिसके बाद अब एक्टिव मामलों की संख्या तीन लाख 39 हजार 820 रह गई है. अबतक 94 लाख 22 हजार 636 लोगों ने इस महामारी से जंग जीती है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें