Gujarat Exclusive > देश-विदेश > पतंजलि ने किया कोरोना की दवा बनाने का दावा, गिलोय-अश्वगंधा का प्रयोग 100% प्रभावी

पतंजलि ने किया कोरोना की दवा बनाने का दावा, गिलोय-अश्वगंधा का प्रयोग 100% प्रभावी

0
2011

भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण अपनी पूरी से आगे बढ़ रहा है. आलम ये है कि भारत ने इटली के कोरोना वायरस मामलों की संख्या को पार कर लिया है और वह दुनिया का चौथा सबसे संक्रमित देश बन गया है. हालांकि इस बीच एक अच्छी खबर सामने आई है. पतंजलि ने कोरोना वायरस की दवा बनाने का दावा किया है. योग गुरू बाबा रामदेव की कंपनी ने दावा किया है कि कोविड 19 के लिए गिलोय और अश्वगंधा का प्रयोग 100% प्रभावी है.

हालांकि फिलहाल शुरूआती स्तर पर इसका ​​परीक्षण चल रहा है, कुछ दिनों बाद इस बारे में चीजें स्पष्ट हो जाएंगी कि बाबा रामदेव का इलाज कोरोना के लिए कितना प्रभावी है, इसके बाद उनके वैज्ञानिक शोध को दुनिया के सामने पेश किया जाएगा.

पतंजलि के संस्थापक बाबा रामदेव ने कहा कि आयुर्वेद वायरस का इलाज करने की शक्ति रखता है, न केवल दवाएं बीमारी के लक्षणों का इलाज कर सकती हैं, बल्कि संक्रमण का इलाज भी कर सकती हैं. आचार्य बालकृष्ण ने भी दावा किया है कि पंतजलि ने कोरोना की दवा बनाने में सफलता हासिल कर ली है. उन्होंने दावा किया है कि इस दवा से हजारों कोरोना के मरीज ठीम हो चुके हैं.

आचार्य बालकृष्ण का दावा है कि अलग-अलग जगहों पर कई कोरोना पॉजिटिव मरीजों को यह दवा दी गई, जिसमें से 80 फीसदी लोग ठीक हो चुके हैं. वहीं भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली के वैज्ञानिकों के एक समूह ने एआईएसटी, जापान के सहयोग से पता लगाया है कि अश्वगंधा में कोविड-19 से लड़ने और इलाज करने की क्षमता है.

मालूम हो कि भारत में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. पिछले 24 घंटों में कोविड 19 के सबसे ज़्यादा 9,996 मामले सामने आए हैं जबकि 357 मौतें हुईं हैं. अब कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 2,86,579 है,जिसमें 1,37,448 सक्रिय मामले, 1,41,029 ठीक/ डिस्चार्ज/विस्थापित हो चुके मामले और 8,102 मौतें शामिल हैं.

IIM अहमदाबाद फिर बना देश का टॉप बिजनेस स्कूल, केंद्रीय विवि में JNU शीर्ष पर