Gujarat Exclusive > देश-विदेश > कोरोना की चपेट में कानपुर का फिजिशियन, साथी डॉक्टर, मरीजों और रिश्तेदारों में मचा हड़कंप

कोरोना की चपेट में कानपुर का फिजिशियन, साथी डॉक्टर, मरीजों और रिश्तेदारों में मचा हड़कंप

0
492

उत्तर प्रदेश के कानपुर में कोरोना का कहर जारी है. यहां रोज मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है. पहले यहां कोरोना हॉटस्पॉट एरिया तक सीमित था मगर पिछले 1 सप्ताह में इसका दायरा बढ़कर शहर के अन्य इलाकों में भी फैलने लगा है. उधर स्वास्थ्य महकमे की टीम द्वारा सैंपल के काम में तेजी न आने की वजह से अधिकतर लोग अब निजी लैब से ही टेस्ट करा रहे हैं. शहर में अब तक 326 कुल मामले सामने आए हैं. निजी लैब की रिपोर्ट के अनुसार 3000 से ज्यादा लोगों ने अभी तक उनके यहां टेस्ट कराए हैं.

रामा मेडिकल कॉलेज में भर्ती किए गए डॉक्टर

शुक्रवार देर रात किदवई नगर के प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टर की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई. प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले फिजीशियन ने 3 दिन पहले बुखार और जुकाम की शिकायत पर प्राइवेट लैब में अपनी जांच कराई. कल देर रात रिपोर्ट आने के बाद डॉक्टर के होश उड़ गए. इसकी सूचना मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय को दी गई. जिसके बाद आनन-फानन में डॉक्टर को रामा मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया.

उधर डॉक्टर के संपर्क में आए उनके सहयोगियों को जब यह सूचना लगी तो उनके होश उड़ गए. वह खुद ही जांच कराने के लिए निजी लैब पहुंच गए हैं. मुख्य चिकित्सा अधिकारी अशोक कुमार शुक्ला ने बताया कि डॉक्टर साउथ कानपुर में प्रैक्टिस करते हैं, जहां वे अपने घर पर और इसके अलावा निजी अस्पताल में भी मरीजों को देखते हैं. अब उनकी कांटेक्ट हिस्ट्री को खंगाला जा रहा है.

संपर्क में आए दूसरे डॉक्टर और पैरामेडकल स्टाफ की हिस्ट्री निकाली जा रही

पता लगाया जा रहा है कि अपने क्लीनिक और निजी अस्पताल में किन-किन लोगों के संपर्क में वह आए. उनके एड्रेस को ट्रेस कराया जा रहा है. साथ ही साथ जिस अस्पताल में वह मरीजों को देखने जाते थे उन मरीजों की लिस्ट उनके सहयोगी डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ की भी डिटेल ली जा रही है. ताकि उन सब के टेस्ट सैंपल लिए जा सकें. सीएमओ ने बताया कि डॉक्टर के चेंबर को भी सील कर दिया जाएगा, साथ ही साथ उनके संपर्क में रोज आने वाले चिकित्सक और पैरामेडिकल स्टाफ को क्वॉरेंटाइन भी कराया जा रहा है.

भारतीय रेल की बड़ी लापरवाही, जौनपुर की जगह वाराणसी पहुंची श्रमिक ट्रेन