Gujarat Exclusive > राजनीति > पीएम मोदी बोले- गाबा में टीम इंडिया की तरह हमें भी चुनौतियों का सामना करना चाहिए

पीएम मोदी बोले- गाबा में टीम इंडिया की तरह हमें भी चुनौतियों का सामना करना चाहिए

0
299

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने असम के तेजपुर विश्वविद्यालय के 18वें दीक्षांत समारोह को संबोधित किया. इस दौरान पीएम मोदी (PM Modi) ने भविष्य की चुनौतियों का सामना करने के लिए भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) का उदाहरण दिया.

प्रधानमंत्री (PM Modi) ने भारतीय क्रिकेट टीम की ऑस्ट्रेलिया पर जीत की सराहना की और कहा कि सकारात्मक सोच सकारात्मक परिणामों की ओर ले जाती है और यही आत्मनिर्भर भारत का मूल है.

यह भी पढ़ें: कांग्रेस को मई में मिलेगा नया अध्यक्ष! CWC की बैठक में सोनिया ने कसा सरकार पर तंज

टीम इंडिया की ऐतिहासिक टेस्ट क्रिकेट जीत से प्रेरणा लेने के लिए देश के युवाओं से आग्रह करते हुए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा,

भारत भले ही कम अनुभवी हो, फिर भी हमें चुनौतियों का सामना करना चाहिए, जैसा कि हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के गाबा में भारतीय क्रिकेट टीम ने कर दिखाया था.

और क्या बोले पीएम

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री (PM Modi) ने आत्मनिर्भर भारत पर भी जोर दिया और कहा कि कोरोना महामारी ने हमें इसका पाठ पढ़ाया है. पीएम ने कहा कि महामारी की शुरुआत में लोग आशंकित थे कि क्या होगा, लेकिन देश ने लचीलापन दिखाया, हमने सक्रिय निर्णय लिया. हमने कोविड के खिलाफ प्रभावी वैक्सीन निकालकर इसका हल निकाला है.

मोदी (PM Modi) ने कहा, हमारे टीके हमारे वैज्ञानिकों पर विश्वास का जीता जागता उदाहरण हैं.

पीएम (PM Modi) ने कहा कि देश की आजादी के 100 वर्ष पूरे होने तक देश का स्वर्णिम काल है और इसमें युवाओं के 20-25 वर्षों की आयु का काल भी शामिल है. उन्होंने कहा कि अभी के युवाओं को भी देश और पूर्वोत्तर को विकास की नई उंचाइयों पर ले जाने के लिए आगे आना चाहिए.

कोरोना वैक्सीन को पीएम ने बताया सुरक्षित

वहीं नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोविड टीकाकरण अभियान के लाभार्थियों और टीके लगाने वालों से संवाद किया. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि 2021 की शुरुआत बहुत ही शुभ संकल्पों से हुई है. काशी के बारे में कहते हैं कि यहां शुभता सिद्धि में बदल जाती है. इसी सिद्धि का परिणाम है कि आज विश्व का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान हमारे देश में चल रहा है.

प्रधानमंत्री ने कहा,

देश ने खुद अपनी दो स्वदेशी वैक्सीन बनाई है और दुनिया के कई देशों को भी भारत वैक्सीन दे रहा है. देश को वैक्सीन देने का पूरा श्रेय वैज्ञानिकों और डॉक्टरों को जाता है. वैज्ञानिकों ने एक अनजान दुश्मन के खिलाफ वैक्सीन तैयार की.

प्रधानमंत्री ने भरोसा दिलाया कि पूरी वैज्ञानिक प्रक्रिया के बाद ही कोरोना वैक्सीन बनाई गई है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें