Gujarat Exclusive > हमारी जरूरतें > इंडिया आइडियाज समिट में बोले पीएम मोदी, ‘भारत में निवेश की बड़ी संभावनाएं’

इंडिया आइडियाज समिट में बोले पीएम मोदी, ‘भारत में निवेश की बड़ी संभावनाएं’

0
413

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को इंडिया आइडियाज समिट को संबोधित करते हुए भारत में संभावनाओं पर चर्चा की. पीएम मोदी ने कहा कि ‘इंडिया आइडियाज समिट’ को संबोधित करने के लिए आमंत्रित करने के लिए यूएस-इंडिया बिजनेस काउंसिल को धन्यवाद देता हूं. मैं वर्षगांठ पर USIBC को भी बधाई देता हूं.पिछले दशकों में, USIBC ने भारतीय और अमेरिकी कारोबार को करीब लाया है. पीएम मोदी ने कहा कि भारत में निवेश करने पर अवसर बेहद उज्‍जवल हैं.

भारत-अमेरिका बिजनेस काउंसिल की स्थापना के 45 साल पूरे होने पर दो दिवसीय इंडिया आईडिया समिट का आयोजन किया जा रहा है. इस दौरान पीएम मोदी ने बेहतर भविष्य के लिए दोनों देशों की साझेदारी को बढ़ाने पर पर जोर दिया. पीएम ने एविएशन, डिफेंस और स्‍पेस को भारत में निेवेश के लिहाज से अमेरिका के लिए अहम क्षेत्र माना.

यह भी पढ़ें बाबरी विध्वंस मामले में सुनवाई से पहले आडवाणी से मिले अमित शाह

पीएम ने कहा, भारत में निवेश पर अपार मौके है. खुला दिमाग, खुला बाजार बनाता है. उन्‍होंने कहा कि बीते 6 वर्षों में भारत की अर्थव्यवस्था और खुली है. हम सभी इस बात पर सहमत हैं कि दुनिया को बेहतर भविष्य की जरूरत है. हम सभी को एकसाथ आकर बेहतर भविष्य देना होगा. मैं पूरी तरह से मानता हूं कि भविष्य को लेकर अप्रोच मानव केंद्रित होना चाहिए. उन्‍होंने कहा कि भारत निवेशकों को कारोबार करने को आमंत्रित करता है. देश में ऊर्जा, कृषि, प्रौद्योगिक क्षेत्र, बिजली बुनियादी ढांचा समेत विभिन्न क्षेत्रों में निवेश के काफी अवसर हैं.

निवेशकों को किया आमंत्रित

भारतीय प्रधानमंत्री ने देश में निवेश के लिए आमंत्रित करते हुए कहा, भारत आपको बुनियादी ढांचे में निवेश करने के लिए आमंत्रित करता है. आइए, हम लाखों लोगों के लिए आवास का निर्माण करें, या हमारे राष्ट्र में सड़कों, राजमार्गों और बंदरगाहों का निर्माण करें. भारत अवसरों की भूमि के रूप में उभर रहा है. मैं आपको टेक्‍नोलॉजी क्षेत्र का एक उदाहरण देता हूं.

विदेश मंत्री भी रहे मौजूद

इस वर्चुअल शिखर बैठक में भारत के विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर भी मौजूद रहे. इससे पहले विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने ‘इंडिया आइडियाज’ सम्मेलन में अमेरिका के साथ व्यापार संबंधों को लेकर कहा था कि हमें लंबित समस्याओं को सुलझाने और आगे कुछ बेहतर की ओर बढ़ने की जरुरत है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें