Gujarat Exclusive > देश-विदेश > पीएम मोदी ने कहा, आतंक के खिलाफ भारत और श्रीलंका एकसाथ लड़ेंगे

पीएम मोदी ने कहा, आतंक के खिलाफ भारत और श्रीलंका एकसाथ लड़ेंगे

0
342

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच दिवसीय दौरे पर भारत आए श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के साथ शनिवार को मुलाकात की. इस दौरान उन्होंने दोनों देशों के बीच सुरक्षा और डिफेंस समेत द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने को लेकर बातचीत की. पीएम मोदी ने कहा कि सुरक्षा हो या अर्थव्यवस्था या सामाजिक प्रगति, हर क्षेत्र में हमारा अतीत और हमारा भविष्य एक-दूसरे से जुड़ा हुआ है. उन्होंने कहा, “श्रीलंका में स्थायित्व, सुरक्षा, और समृद्धि भारत के हित में तो है ही, पूरे हिन्द महासागर क्षेत्र के हित में भी है.” उन्होंने कहा “भारत और श्रीलंका पड़ोसी होने के साथ-साथ अच्छे दोस्त भी हैं. हमारे क्षेत्र में आतंकवाद एक बड़ी समस्या है. हमने इसका जमकर मुकाबला किया है और आगे भी हम इससे मुकाबला करना जारी रखेंगे.”

महिंदा राजपक्षे पांच दिवसीय यात्रा पर शुक्रवार को यहां पहुंचे. पिछले साल नवंबर में द्वीपीय देश का प्रधानमंत्री नियुक्त होने के बाद राजपक्षे की यह पहली विदेश यात्रा है. अधिकारियों ने बताया कि दोनों प्रधानमंत्रियों के बीच व्यापार और निवेश के साथ ही रक्षा तथा सुरक्षा समेत अहम द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा हुई.

महिंदा राजपक्षे 2005 से 2015 तक अपने देश के राष्ट्रपति रहे. वह दक्षिण एशिया में सबसे अधिक समय तक राष्ट्रपति रहे नेताओं में से एक हैं. वह 2018 में भी थोड़े समय के लिए प्रधानमंत्री रहे. राष्ट्रपति के तौर पर उनके कार्यकाल में चीन ने हिंद महासागर के द्वीपीय देश में अपने पैर पसारने शुरू कर दिए थे जिससे भारत में चिंताएं बढ़ गई थीं.

हालांकि, दोनों देशों के बीच पिछले चार वर्षों में रिश्तों में प्रगाढ़ता आई है. राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे पद संभालने के बाद अपनी पहली आधिकारिक विदेशी यात्रा पर नवंबर में भारत आए थे. श्रीलंकाई राष्ट्रपति की यात्रा के दौरान दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय रक्षा और सुरक्षा संबंधों को और मजबूत करने का संकल्प लिया था.

दिल्ली में कार्यक्रमों के बाद महिंदा राजपक्षे वाराणसी, सारनाथ, बोधगया और तिरुपति जाएंगे. श्रीलंका के प्रधानमंत्री का सुबह राष्ट्रपति भवन में रस्मी स्वागत किया गया. इससे पहले विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे से शनिवार को मुलाकात की और दोनों पड़ोसी देशों के बीच विकास साझेदारी एवं सुरक्षा सहयोग से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की.