Gujarat Exclusive > यूथ > धोनी के संन्यास पर पीएम मोदी का भावुक पत्र, माही ने भी दिया जवाब

धोनी के संन्यास पर पीएम मोदी का भावुक पत्र, माही ने भी दिया जवाब

0
521

महेंद्र सिंह धोनी का इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लेने से हर कोई मायूस है. इस बीच धोनी के संन्यास लेने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी उन्हें पत्र लिखकर उनकी तारीफ की है और आगे जीवन के लिए शुभकामनाएं दी.

पत्र में पीएम मोदी ने धोनी के जीवन के कई अहम पलों को याद किया.
विशेष रूप से विश्व कप टी-20 2007 और 2011 में उनके योगदान को सराहा है.
पीएम मोदी ने पत्र में धोनी के हेयर स्टाइल से लेकर उनकी बेटी जीवा के साथ बॉन्डिंग पर भी जिक्र किया है.

यह भी पढ़ें: अवमानना मामले में कोर्ट जो सजा देगी मैं भोगने के लिए तैयार: प्रशांत भूषण

धोनी का आया जवाब

पीएम मोदी के पत्र पर महेंद्र सिंह धोनी का भी जवाब आया है.
धोनी ने ट्वीट किया, ‘एक कलाकार, सैनिक और खिलाड़ी को प्रशंसा की कामना होती है.
वे चाहते हैं कि उनकी मेहनत और बलिदान को सभी पहचानें.
शुक्रिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, आपकी ओर से मिली प्रशंसा और शुभकामनाओं के लिए.’

 

पीएम ने पत्र में क्या लिखा

मोदी ने धोनी के नाम इस चिट्ठी में लिखा कि आपमें नए भारत की आत्मा झलकती है, जहां युवाओं की नियति उनका परिवार का नाम तय नहीं करता है, बल्कि वे अपना खुद का मुकाम और नाम हासिल करते हैं.

मोदी ने धोनी को लिखा,

15 अगस्त को आपने अपने सादे अंदाज में एक छोटा वीडियो साझा किया जो पूरे देश में एक लंबी और जुनूनी बहस के लिए काफी था. 130 करोड़ भारतीय निराश हैं लेकिन साथ ही जो आपने पिछले डेढ़ दशक में भारत के लिए किया उसके लिए आपके आभारी भी हैं.

पीएम ने आगे लिखा, ‘आपके करियर को देखने का एक तरीका आंकड़ो के चश्मे से देखने का है.
आप भारतीय क्रिकेट के सबसे कामयाब कप्तानों में शामिल हैं.
भारत को दुनिया में चोटी की टीम बनाने में आपकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है.
क्रिकेट के इतिहास में आपका नाम दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में, सर्वश्रेष्ठ कप्तानों में और नि:संदेह सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर्स में आएगा.’

पीएम मोदी ने आगे लिखा,

मुश्किल हालात में आप पर निर्भरता और मैच को खत्म करने का आपका स्टाइल.
 खास तौर पर 2011 वर्ल्ड कप फाइनल, पीढ़ियों तक लोगों को याद रहेगा.

प्रधानमंत्री ने आगे लिखा, ‘लेकिन महेंद्र सिंह धोनी का नाम सिर्फ उनके करियर के आंकड़ो के लिए याद नहीं किया जाएगा और न ही किसी इकलौते मैच को जीतने में उनकी भूमिका के लिए जाना जाएगा.
आपको सिर्फ एक खिलाड़ी के रूप में देखना अन्याय होगा.
आपको देखने का सही तरीका एक घटना है.’

यह भी पढ़ें: राहुल का मोदी सरकार पर हमला

उन्होंने ने लिखा, ‘एक छोटे शहर से उठकर आप राष्ट्रीय पटल पर छा गए.
आपने अपने लिए नाम बनाया और सबसे महत्वपूर्ण देश को गौरवांवित किया.
आपकी तरक्की और उसके बाद के जीवन ने उन करोड़ो नौजवानों को प्रेरणा दी तो महंगे स्कूलों या कॉलेजों में नहीं गए, न ही वे किसी प्रतिष्ठित परिवार से आते हैं लेकिन उनके पास स्वयं को सर्वोच्च स्तर पर स्थापित करने की क्षमता है.’

पीएम ने लिखा,

आपमें नए भारत की आत्मा झलकती है, जहां युवाओं की नियति उनका परिवार का नाम तय नहीं करता है, बल्कि वे अपना खुद का मुकाम और नाम हासिल करते हैं.

उन्होंने लिखा, ‘हम कहां से आए हैं यह बहुत ज्यादा मायने नहीं रखता जब तक हमें यह मालूम हो कि हम किस दिशा में जा रहे हैं- आपने यही भावना प्रदर्शित की और कई युवाओं को इससे प्रेरित किया.’

मालूम हो कि एमएस धोनी ने 15 अगस्त की देर शाम संन्यास की घोषणा करके सबको हैरान कर दिया था.
संन्यास के बाद उनके लिए फेयरवेल मैच की मांगें उठ रही हैं.
धोनी की कप्तानी में भारत ने 2011 विश्व कप जीतने था.
इसके अलावा उन्होंने भारत को 2007 टी-20 विश्व कप भी दिलाया था.

साथ ही उनके मार्गदर्शन में भारतीय टीम टेस्ट में नंबर एक टीम भी बनी थी.
बल्लेबाजी शैली के लिए लोग उन्हें याद कर रहे.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

स्वच्छ सर्वेक्षण 2020: स्वच्छ शहरों में इंदौर का दबदबा कायम, सूरत को मिला दूसरा स्थान