Gujarat Exclusive > गुजरात > पॉपुलर बिल्डर के मालिकों की जमानत याचिका खारिज, 3 करोड़ की संपत्ति हड़पने का है आरोप

पॉपुलर बिल्डर के मालिकों की जमानत याचिका खारिज, 3 करोड़ की संपत्ति हड़पने का है आरोप

0
213

अहमदाबाद की एक स्थानीय अदालत ने पॉपुलर बिल्डर्स (Popular Builders) के मालिकों- रमन पटेल और दशरथ पटेल की जमानत को खारिज कर दिया. इन दोनों पर अहमदाबाद में 3 करोड़ रुपये की संपत्ति हड़पने का आरोप है.

अदालत ने दोनों आरोपियों (Popular Builders) की जमानत खारिज करते हुए कहा कि दोनों के खिलाफ शहर के विभिन्न पुलिस थानों में कई गंभीर अपराध दर्ज किए गए हैं. इस मामले में जांच भी जारी है इसलिए अदालत उन्हें जमानत नहीं दे सकती है.

यह भी पढ़ें: गुजरात में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2 लाख के पार, 1510 नए मरीज मिले

याचिकाकर्ता के वकील ने अदालत को बताया कि शिकायतकर्ता ने आरोपियों को किराए पर उक्त संपत्ति दी थी और सभी बिजली और टैक्स के बिलों का भुगतान उनके द्वारा किया जा रहा है. पटेल भाईयों (Popular Builders) के वकील ने कहा कि शिकायतकर्ता ने दोनों के साथ दुर्व्यवहार किया और सितंबर में बिजली बिल के लिए दिए चेक को भी स्वीकार नहीं किया गया.

आरोप है कि दोनों पक्षों ने हर तीन साल में किराए में 15% की बढ़ोतरी करने पर सहमति जताई थी लेकिन 2015 में शिकायतकर्ता ने किराया 10,000 रुपये बढ़ा दिया. जनवरी 2020 में शिकायतकर्ता ने अहमदाबाद सिविल कोर्ट में एक लंबित मामले के संबंध में दोनों भाइयों (Popular Builders) के साथ कथित रूप से दुर्व्यवहार किया.

क्या है शिकायत?

शिकायत के अनुसार, पटेल बंधुओं (Popular Builders) ने शिकायतकर्ता के कार्यालय को अहमदाबाद के न्यूयॉर्क टॉवर में किराए पर लिया. इसके बाद दोनों ने 3 करोड़ रुपये की उसकी संपत्ति हड़प ली. इसके बाद दोनों भाइयों पर वस्त्रापुर पुलिस स्टेशन द्वारा IPC- 406, 420, 468, 506(2) और 120(b) के तहत मामला दर्ज किया गया.

शिकायत में कहा गया है कि दोनों भाइयों (Popular Builders) ने थलतेज में न्यूयॉर्क टॉवर में आठवीं मंजिल पर 2950 वर्ग फुट का एक कार्यालय किराए पर लिया क्योंकि उनका अपने कार्यालय में काम चल रहा था.

उन्होंने 11 महीने के रेंट एग्रीमेंट पर साइन किया जिसके मुताबिक दोनों भाई न केवल किराए का भुगतान करने के लिए सहमत हुए बल्कि हर साल 15% की बढ़ोतरी भी प्रदान करने के लिए तैयार हुए. इसके अलावा तमाम बिलों का भी भुगतान करने के लिए सहमत हुए. 24 जून, 2010 को कार्यालय इस वायदे के साथ किराए पर दिया गया था कि वे अपने कार्यालय का काम खत्म होते ही इसे खाली कर देंगे लेकिन वे बिना कोई किराया दिए उस पर कब्जा जमा बैठे.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें