Gujarat Exclusive > गुजरात > गुजरात के गिर जंगल में शेरों की संख्या 29 फीसदी बढ़ी, संख्या बढ़कर हुई 674

गुजरात के गिर जंगल में शेरों की संख्या 29 फीसदी बढ़ी, संख्या बढ़कर हुई 674

0
1116

कोरोना काल में कई अच्छी खबरें भी सुनने को मिली हैं. गुजरात में एशियाई शेरों की दहाड़ और ज्यादा सुनने को मिलेगी. खबर है कि राज्य में एशियाई शेरों की संख्या बढ़कर 674 हो गई है. पांच वर्ष पहले यह संख्या 523 थी. शेरों में 28.87 फीसदी की वृद्धि पाई गई जो अब तक सबसे ज्यादा बढ़ोत्तरी है.

इतना ही नहीं, शेरों के विस्तार का इलाके में भी वृद्धि देखी गई है. अब शेरों का इलाका 22 हजार वर्ग किलोमीटर से बढ़कर 30 हजार किलोमीटर क्षेत्र तक फैल गया है. इस तरह अब शेरों का इलाका भी 36 फीसदी बढ़ा. एशियाई शेरों के लिए मशहूर गिर नेशनल पार्क 412 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है.

पिछले कई वर्षों से गुजरात सरकार और वन विभाग शेरों के संरक्षण को लेकर यहां पर काम कर रहे हैं. यही वजह है कि यहां पिछले कुछ सालों में शेरों की संख्या बढ़ी है. गिर जंगल देश में एशियाई शेरों का एकमात्र ठिकाना है. पूरी दुनिया में दक्षिणी अफ्रीका के अलावा गिर नेशनल पार्क ही एकमात्र ऐसी जगह है जहां पर शेरों को अपने प्राकृतिक आवास में रहते हुए देखा जा सकता है. इस नेशनल पार्क में शेरों के अलावा हिरण, सांभर, चीतल, नीलगाय, भालू जैसे जानवर भी हैं. देश में शेरों की संख्या में 29 फीसदी बढ़ी है.

उधर इसके बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद ट्वीट करके इसकी जानकारी दी. उन्होंने शेरों की तस्वीरों के साथ ट्वीट किया, ‘गुजरात के गिर फोरेस्ट में रहने वाले एशियाई शेरों की आबादी करीब 29 फीसदी बढ़ी है. उनके रहने का दायरा भी 36 फीसदी बढ़ा है. इसके लिए गुजरात के लोग और वे सभी लोग बधाई के पात्र हैं जिनके प्रयासों से यह उपलब्धि हासिल हुई है.’

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ वर्षों से गुजरात में शेरों की संख्या लगातार बढ़ी है. यह जन सहभागिता, तकनीक के इस्तेमाल, वन्यजीवों के स्वास्थ्य की देखभाल, उचित पर्यावास प्रबंधन और मनुष्य तथा शेरों के बीच टकराव को कम के कम करने के प्रयासों का नतीजा है. उम्मीद है कि यह सकारात्मक रुझान जारी रहेगा.

मालूम हो कि एशियाई शेरों के लिए मशहूर गिर नेशनल पार्क 412 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है. पिछले कई वर्षों से गुजरात सरकार और वन विभाग शेरों के संरक्षण को लेकर यहां पर काम कर रहे हैं. यही वजह है कि यहां पिछले कुछ सालों में शेरों की संख्या बढ़ी है. गिर जंगल देश में एशियाई शेरों का एकमात्र ठिकाना है. पूरी दुनिया में दक्षिणी अफ्रीका के अलावा गिर नेशनल पार्क ही एकमात्र ऐसी जगह है जहां पर शेरों को अपने प्राकृतिक आवास में रहते हुए देखा जा सकता है.

नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के करीब 1350 करोड़ रुपये के हीरे-मोती भारत लाए गए