Gujarat Exclusive > देश-विदेश > प्रणब मुखर्जी की हालत स्थिर, बेटे अभिजीत ने कहा- जल्द होंगे हमारे बीच

प्रणब मुखर्जी की हालत स्थिर, बेटे अभिजीत ने कहा- जल्द होंगे हमारे बीच

0
1390

भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की स्थिति में रविवार को भी कोई सुधार देखने को नहीं मिला है. पहले के ही तरह उनको वेंटिलेटर के सपोर्ट पर रखा गया है.

दिल्ली कैंट के आर्मी रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में भर्ती पूर्व राष्ट्रपति के स्वास्थ्य को लेकर आज अस्पताल की ओर से हेल्थ बुलेटिन जारी किया गया.

अस्पताल ने जारी किया हेल्थ बुलेटिन 

अस्पताल की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन की ओर से बताया गया कि उनके अब भी वेंटिलेटर के सपोर्ट पर रखा गया है.

उनकी देखभाल करने वाले डॉक्टरों की टीम ने कहा कि उनकी हालत स्थिर बनी हुई है. जबकि विशेषज्ञ डॉक्टरों की एक टीम उनके ऊपर करीबी से नजर बनाए हुए हैं.

पहले से ही वह कई बीमारियों से ग्रस्त हैं.

 

बेटे अभिजीत ने कहा- जल्द होंगे हमारे बीच

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के स्वास्थ को लेकर उनके बेटे अभिजीत मुखर्जी ने जानकारी देते हुए कहा कि पिछले दिनों की तुलना में अब उनकी हालत बेहतर है.

उन्होंने कहा कि उनके सभी प्रमुख पैरामीटर स्थिर हैं. हमें पूरा विश्वास है कि वह जल्द ठीक होकर हमारे बीच वापस आ जाएंगे.

यह भी पढ़ें: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के छोटे भाई का निधन, अस्पताल में चल रहा था इलाज

10 अगस्त से अस्पताल में हैं भर्ती

84 वर्षीय मुखर्जी को 10 अगस्त को सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया गया था. इसके बाद उनकी मस्तिष्क की सर्जरी की गई थी.

डॉक्टरों के मुताबिक, उनके मस्तिष्क में क्लॉटिंग की समस्या के कारण सर्जरी करनी पड़ी थी.

कोरोना से भी संक्रमित हैं पूर्व राष्ट्रपति

इससे पहले प्रणव मुखर्जी का कोरोना टेस्ट किया गया था. जांच में उनके संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी.

इससे पहले शुक्रवार को पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने जानकारी दी कि अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि पूर्व राष्ट्रपति की सेहत शुक्रवार सुबह भी वैसी ही बनी रही.

निधन की अफवाहों पर बेटे अभिजीत ने जताई थी नाराजगी

बीते दिनों सोशल मीडिया पर अफवाह उड़ी थी कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का निधन हो गया है.

जिसके बाद उनके बेटे अभिजीत मुखर्जी ने नाराजगी जताते हुए कहा था कि “मेरे पिता श्री प्रणब मुखर्जी अब भी जिंदा है और ‘हेमोडायनामिक’ तौर पर स्थिर हैं.

कई वरिष्ठ पत्रकारों के सोशल मीडिया पर गलत खबरें फैलाने से स्पष्ट हो गया है कि भारत में मीडिया फर्जी खबरों की एक फैक्टरी बन गई है.”

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

UP के लखीमपुर खीरी में इंसानियत हुई शर्मसार, 13 वर्षीय लड़की से गैंगरेप के बाद हत्या