Gujarat Exclusive > देश-विदेश > बेलारूस में राष्ट्रपति के खिलाफ सड़क पर उतरे लाखों प्रदर्शनकारी

बेलारूस में राष्ट्रपति के खिलाफ सड़क पर उतरे लाखों प्रदर्शनकारी

0
254
  • राष्‍ट्रपति लुकाशेन्‍को के खिलाफ प्रदर्शन
  • बुलेटप्रूफ जैकेट और राइफल में दिखे राष्ट्रपति
  • चुनावों के बाद हो रहे हैं विरोध प्रदर्शन

बेलारूस की राजधानी मिंस में लाखों लोग सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतर आए हैं. विपक्ष के लाल और सफेद झंडे से लैस प्रदर्शनकारी स्‍वतंत्रता चौक पर इकट्ठा हो गए हैं और राष्‍ट्रपति एलेक्‍जेंडर लुकाशेंको के खिलाफ नारेबाजी करने लगे.

जनता के इस विद्रोह से घबराए राष्‍ट्रपति लुकाशेन्‍को बुलेटप्रूफ जैकेट पहन असाल्‍ट राइफल लेकर अपने राष्‍ट्रपति भवन में नजर आए.
प्रदर्शनकारियों का कहना है कि राष्ट्रपति एलेक्ज़ेंडर लुकाशेंको ने चुनाव में धोखाधड़ी की है.
वो उनके इस्तीफ़े की मांग कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें : अवमानना मामला: प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट से माफी मांगने से किया इनकार

विवादास्पद चुनाव के बाद मचा बवाल

बेलारूस (Belarus news) में 9 अगस्‍त को हुए विवादास्‍पद चुनाव के बाद से ही देश में बवाल मचा हुआ है.
चुनाव में राष्ट्रपति लुकाशेंको को 80 फ़ीसद और विपक्षी नेता स्वेतलाना तिख़ानोव्सक्या को 10 फ़ीसद वोट मिले.
लुकाशेंको 26 साल से बेलारूस की सत्ता पर जमे हुए हैं.
इस चुनाव में कोई स्वतंत्र पर्यवेक्षक नहीं था.
विपक्ष का आरोप है कि चुनाव में बड़े पैमाने पर धांधली हुई है.

चुनाव के बाद से बेलारूस में प्रदर्शन जारी है. हाल के प्रदर्शनों के ऊपर पुलिसिया कार्रवाई में कम से कम चार लोगों की जान भी जा चुकी है.
प्रदर्शनकारियों का कहना है कि उन्हें जेल में प्रताड़ित किया गया है.

डेढ़ लाख के करीब प्रदर्शनकारी

अंतरराष्‍ट्रीय एजेंसियों का अनुमान है कि करीब डेढ़ लाख लोग राष्‍ट्रपति लुकाशेन्‍को के खिलाफ ताजा प्रदर्शनों में हिस्‍सा ले रहे हैं.
रविवार को इंडिपेंडेस स्क्वेयर पर बच्चों से लेकर बुज़ुर्ग तक दसियों हज़ार लोग इकट्टा हुए.
कई प्रदर्शनकारियों ने लाल और सफ़ेद रंग का विपक्षी झंडा ले रखा था और साथ में आज़ादी के समर्थन और सरकार के विरोध में नारे लगा रहे थे.
वहां मौजूद लोगों का कहना है कि कुछ महीने पहले इसकी कल्‍पना भी नहीं की जा सकती थी.
उधर, प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए बेलारूस में सेना को तैनात कर दिया गया है.

बेलारूस के राष्ट्रपति ने गृह मंत्रालय को इन विरोध-प्रदर्शनों को ख़त्म करने का निर्देश दिया है और ‘समस्या सुलझाने का वादा’ किया है. लेकिन कोई गंभीर प्रयास इन विरोध-प्रदर्शनों को रोकने के लिए नहीं किया गया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

राहुल का मोदी सरकार पर तंज, 1 नौकरी, एक हजार बेरोजगार, क्‍या कर दिया देश का हाल