Gujarat Exclusive > राजनीति > शहीद-ए-आजम भगत सिंह के गांव में कृषि बिल के खिलाफ धरना पर बैठे पंजाब सीएम

शहीद-ए-आजम भगत सिंह के गांव में कृषि बिल के खिलाफ धरना पर बैठे पंजाब सीएम

0
546
  • शहीद-ए-आजम भगत सिंह की जयंती पर कृषि बिल का विरोध
  • भगत सिंह को श्रद्धांजलि देने के बाद धरना पर बैठे पंजाब सीएम
  • भगत सिंह के गांव खटकर कलां पहुंचे कांग्रेसी नेता
  • पंजाब का कृषि क्षेत्र पूरी तरह से बर्बाद हो जाएगा- सीएम

देश को स्वतंत्रता दिलाने में मुख्य भूमिक अदा करने वाले महान क्रांतिकारी शहीद-ए-आजम भगत सिंह की आज जयंती मनाई जा रही है.

उनकी जयंति के मौके पर किसान कृषि से जुड़े बिलों को लेकर विरोध कर रहे हैं.

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह भगत सिंह के गांव खटकर कलां पहुंचकर पहले तो उन्हें श्रद्धांजलि दिया उसके बाद कृषि कानून के खिलाफ धरने पर बैठे.

कैप्टन अमरिंदर के साथ पंजाब कांग्रेस के कई नेता और मंत्री भी उनके साथ धरना पर बैठे हैं.

विपक्ष कर रहा है विरोध

कृषि बिल पर राष्ट्रपति के मंजूरी की मुहर लगने के बाद भी कांग्रेस के साथ ही साथ विपक्ष का तेवर हमलावर हो गया है.

विपक्ष केंद्र के साथ ही साथ राष्ट्रपति पर किसानों की भावना को समझने में नाकाम बताया है. इससे पहले भी पंजाब में किसानों ने रेल रोको आंदोलन चलाया था जिसकी वजह से कई ट्रेनों को रद्द करना पड़ा था.

शहीद-ए-आजम भगत सिंह के गांव में कृषि बिल के खिलाफ प्रदर्शन

कृषि कानून के विरोध में पंजाब में सत्तारूढ़ कांग्रेस शहीद-ए-आजम भगत सिंह की जयंती पर उनके पैतृक गांव में धरना दे रही है.

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस मौके पर राष्ट्रपति द्वारा इस बिल पर मंजूरी की मुहर लगाने को दुर्भाग्यपूर्ण और निराशाजनक बताया.

उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति ने संसद में अपनी चिंता को जाहिर करने का मौका नहीं दिया. उनके इस कदम ने देशभर के किसानों को झटका दिया है.

इस कानून की वजह से पंजाब का कृषि क्षेत्र पूरी तरह से बर्बाद हो जाएगा.

यह भी पढ़ें:  हरियाणा में बुरे फंसे BJP विधायक, किसानों के सवालों से परेशान कार छोड़कर भागे

दिल्ली में भी जारी विरोध प्रदर्शन

भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किसानों के भावनाओं को दरकिनार करते हुए विवादास्पद कृषि बिल को मंजूरी दे दी है. राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद किसानों का विरोध तेज हो गया है.

हरियाणा और पंजाब के किसान इस बिल का जमकर बीते कुछ दिनों से विरोध कर रहे हैं.

लेकिन अब इसका असर देश की राजधानी दिल्ली में भी देखने को मिल रही है. विरोध करने वाले किसानों ने संसद के बिल्कुल पास पहुंचकर इंडिया गेट के करीब ट्रैक्टर में आग लगा दी.

हांलकि मौके पर मौजूद पुलिस ने भीड़ को इकठ्ठा नहीं होने दिया. लेकिन संसद भवन के बिल्कुल करीब ट्रैक्टर को आग लगने की घटना की वजह हंगामा हो गया.

संसद भवन के आसपास के इलाके को काफी वीआईपी माना जा रहा है. इसलिए वहां पर धारा 144 लागू कर दिया गया है.

जबकि देश में बढ़ते कोरोना वायरस की वजह से लोगों को जमा जगह जमा होने की इजाजत नहीं दी जा रही है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

चुनावी मैदान में पति को पटखनी देने को तैयार, तेज प्रताप के खिलाफ चुनाव लड़ सकती है ऐश्वर्या