Gujarat Exclusive > गुजरात > PVS शर्मा मामला: IT की सूरत में 10, मुंबई में 2 और ठाणे में 1 जगह पर छापामारी

PVS शर्मा मामला: IT की सूरत में 10, मुंबई में 2 और ठाणे में 1 जगह पर छापामारी

0
353
  • कला मंदिर में टैक्स चोरी करने का आरोप लगाने वाला पीवीएस शर्मा खुद निकला कलाकार
  • पीवीएस शर्मा पर मनी लॉन्ड्रिंग घोटाला चलाने का संदेह
  • संकेत मीडिया और बिल्डर धवल शाह के यहां आईटी की छापेमारी

सूरत: शहर के कलामंदिर ज्वेलर्स पर आरोप लगाने वाले भाजपा उपाध्यक्ष पीवीएस शर्मा खुद एक बड़े कलाकार साबित हो रहे हैं.

आयकर विभाग ने उनके कई ठिकानों पर छापेमारी कर रही है. टीम ने उनके सीए अशोक आदुकिया के घर पर छापेमारी की है.

संकेत मीडिया प्राइवेट लिमिटेड और बिल्डर धवल शाह के वहां भी आईटी ने छापेमारी कर जांच शुरू की है. उसके साथ ही मुंबई की कुसुम सिलिकॉन कंपनी में भी छापेमारी की जानकारी सामने आ रही है.

शर्मा को वहां से सालाना 18 लाख रुपया पगार के तौर पर मिलता था. इसके अलावा आयकर विभाग ने सूरत के कुसुम डाई कैप में भी छापा मारा है.

यह सब देखकर ऐसा लगता है कि पीवीएस शर्मा मनी लॉन्ड्रिंग का घोटाला चला रहा था. आयकर विभाग ने छापेमारी के दौरान कई आपत्तिजनक दस्तावेज भी जब्त किए हैं.

आपत्तिजनक दस्तावेज भी जब्त

छापेमारी में यह भी पता चला कि उसके परिवार के नाम पर दस बैंक लॉकर भी हैं. इसके अलावा 3.50 लाख रुपये नकद भी बरामद किए गए हैं.

इसी मामले में आईटी विभाग ने छायडा ग्रुप के भरत शाह के टिकाने पर भी छापामारी की है. इस प्रकार आयकर विभाग ने पीवीएस शर्मा से संबंधित मामलों में सूरत में दस, मुंबई में दो और ठाणे में एक स्थान पर छापा मारा है.

आयकर विभाग के इस छापेमारी में 50 से अधिक अधिकारी शामिल थे.

नोटबंदी के दौरान भ्रष्टाचार करने का लगाया था आरोप

सूरत के पीपलोड इलाके में मौजूद उनके घर पर छापेमारी की गई थी. आयकर विभाग की छापेमारी के खिलाफ वह धरना पर बैठ गए हैं.

पीवीएस शर्मा ने मंगलवार को आरोप लगाया था कि नोटबंदी के दौरान कला मंदिर ज्वैलर्स के द्वारा करोड़ों रुपये का घोटाला किया था और उनके पास इसका सबूत भी है.

इस मामले को लेकर पीवीएस शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री को ट्वीट कर मामले की ईडी और सीबीआई से जांच कराने की मांग की थी.

पीवीएस शर्मा ने आरोप लगाया था कि नोटबंदी के दौरान, एक ज्वैलर्स द्वारा तीन दिनों में बैंक में 110 करोड़ रुपये जमा किए गए. लेकिन उसके सामने केवल 84 लाख रुपये टैक्स भरा गया था.

उन्होंने दावा किया था कि इस घोटाले का उनके पास सबूत भी है. मिल रही जानकारी के अनुसार आपत्तिजनक दस्तावेज मिलने के बाद उनकी पूछताछ की जा रही है.

भाजपा नेता पीवीएस शर्मा के घर पर देर रात आयकर विभाग की टीम ने छापेमारी की थी. छापेमारी सुबह तक चली थी. आयकर विभाग के अधिकारियों के साथ पुलिस की टीम भी मौजूद थी.

आधिकारियों ने शर्मा के घर से कुछ दस्तावेज और उनका मोबाइल फोन भी जब्त कर लिया था. आईटी विभाग के इस कार्रवाई से नाराज शर्मा धरना पर बैठ गए हैं.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गुजरात चुनाव प्रचार में शराब की एंट्री, CM रूपाणी कांग्रेसी विधायकों पर बोला हमला