Gujarat Exclusive > गुजरात > भ्रष्टाचार की शिकात करने वाला शर्मा खुद भ्रष्टाचारी, 40 से 50 करोड़ का है मालिक

भ्रष्टाचार की शिकात करने वाला शर्मा खुद भ्रष्टाचारी, 40 से 50 करोड़ का है मालिक

0
754
  • आईटी ने पीवीएस शर्मा के 80 करोड़ दस्तावेजों की कर रही है जांच
  • जांच के दौरान पीवीएस शर्मा की तबीयत बिगड़ी
  • कलामंदिर के मालिक शर्मा के खिलाफ मानहानि का करेंगे केस

सूरत: कलामंदिर पर टैक्स चोरी का आरोप लगाने वाले भाजपा के उपाध्यक्ष पीवीएस शर्मा खुद एक बड़ा घोटालेबाज निकला.

लगातार तीसरे दिन आयकर विभाग ने छापेमारी कर 40 से 50 करोड़ रुपये के बीच की कुल दस संपत्ति का असामी बताया है. इसके अलावा 80 करोड़ रुपये के दस्तावेजों की भी जांच की जा रही है.

दस्तावेजों की जांच में यह भी पता चला कि शर्मा और उनकी पत्नी ने 6.50 करोड़ रुपये का कर्ज लिया है.

आईटी जांच के दौरान शर्मा की तबीयत बिगड़ी

पीवीएस शर्मा जिन्होंने काले धन के बारे में पीएम मोदी से शिकायत करने वाला खुद काले धन का स्वामी है. इसके अलावा शर्मा ने खुद मुंबई स्थित कंपनी कुसुम सिलिकॉन में अपनी नौकरी दिखाई है.

वह 2011 से इस कंपनी से जुड़े हैं और हर महीने में 1.5 लाख रुपये सैलरी लेते हैं. अपने वेतन के अलावा उन्हें आठ से नौ वर्षों में 90 लाख रुपये का कमीशन मिला है. आईटी जांच के दौरान शर्मा की तबीयत बिगड़ गई.

इसलिए अधिकारी डॉक्टर को बुलाने के लिए मजबूर हुए.

जिस कंपनी में शर्मा नौकरी करने का दावा करते हैं वहां के अन्य कर्मचारी पहचानते ही नहीं है

आईटी अधिकारियों का कहना है कि शर्मा मुंबई स्थित जिस कंपनी में काम करने का दाव कर रहे हैं वहां के कर्मचारियों का कहना है कि वे शर्मा नाम के किसी व्यक्ति को पहचानते ही नहीं है.

इसलिए आईटी की टीम अब इस दिशा में जांच कर रही है कि सूरत में रहने के बाद कंपनी शर्मा को सैलरी किस बुनियाद पर दे रही है. इसके अलावा कुसुम डाइकैम नामक कंपनी पाई गई है, जिसकी जांच भी चल रही है.

कंपनी के मालिक कुसुम खंडेलिया और कौशल खंडेलिया के घर पर भी छापेमारी की गई है. इस दौरान कौशल खंडेलिया के पास से एक किलो सोना-चांदी और 35 लाख रुपये के एफडी के दस्तावेज बरामद हुए हैं.

इसके अलावा, आईटी टीम पीवीएस शर्मा के सीए आदुकिया ने यहां एम्पायर बिल्डिंग की चौथी मंजिल पर छापेमारी किया है. वहां से भी पीवीएस शर्मा से संबंधित कुछ कागजात और दस्तावेज आईटी टीम ने बरामद किया है.

नोटबंदी के दौरान भ्रष्टाचार करने का अन्य लोगों पर आरोप लगाने वाले शर्मा खुद भ्रष्टाचारी साबित हो रहे हैं.

शर्मा बिल्डर भरत शाह की कंस्ट्रक्शन कंपनी में भी शामिल हैं

इसके अलावा वह बिल्डर भरत शाह की कंस्ट्रक्शन कंपनी के साथ जुड़े होने की जानकारी सामने आ रही है. वहां से भी आईटी अधिकारियों ने एक किलो सोना बरामद किया है.

कलामंदिर के मालिक मिलन शाह ने कहा है कि वह पीवी शर्मा के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर करने जा रहे हैं.

उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि “हम पिछले 30 वर्षों से व्यापार कर रहे हैं और सरकारी नियमों का पालन कर रहे हैं. हमारी छवि को धूमिल करने की कोशिश की जा रही है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

राहुल गांधी ने शायराना अंदाज में PM मोदी पर बोला हमला, चुनावी प्रचार का किया आगाज