Gujarat Exclusive > राजनीति > राहुल गांधी ने छात्रों से कहा- वो Dislike बंद कर सकते हैं, आपकी आवाज नहीं

राहुल गांधी ने छात्रों से कहा- वो Dislike बंद कर सकते हैं, आपकी आवाज नहीं

0
701

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के यूट्यूब (YouTube) चैनल पर डिस्लाइक का मुद्दा तूल पकड़ता जा रहा है. ताजा मामले में कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने भाजपा के यूट्यूब (YouTube) पर डिस्लाइक्स बढ़ने को लेकर तंज करते हुए निशाना साधा है.

राहुल गांधी ने ट्विटर पर लिखा है कि वो Dislike, Comment बंद कर सकते हैं, लेकिन आपकी आवाज़ नहीं. हम आपकी बात दुनिया के सामने रखते रहेंगे.

 

दरअसल सरकार ने आरआरबी एग्जाम के लिए एडमिट कार्ड भी जारी कर दिए हैं. कांग्रेस इसको लेकर लगातार सत्तारूढ़ बीजेपी पर निशाना साध रही है.

यह भी पढ़ें: कोविड तो बस बहाना है, सरकारी दफ्तरों को स्थायी ‘स्टाफ-मुक्त’ बनाना है: राहुल गांधी

कांग्रेस ने बताया युवा विरोधी सरकार

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से पहले कांग्रेस ने केंद्र सरकार को युवा विरोधी बताया था. कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट कर सरकार पर कई सवाल दागे थे, तो वहीं प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने अटकी हुई भर्तियां गिनाई थीं.

गौरव वल्लभ ने कहा था कि सीएमआईई के मुताबिक लॉकडाउन के दौरान 1.89 करोड़ नौकरियां चली गईं. वल्लभ ने भी अटकीं पड़ी भर्तियों का जिक्र करते हुए कहा कि आरआरबी ने 23 फरवरी 2019 को एक लाख से अधिक पदों पर भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किए थे. उन्होंने कहा था कि इन पदों के लिए एक करोड़ युवाओं ने आवेदन किए. 500 करोड़ रुपये शुल्क के तौर पर एकत्रित हुए, लेकिन अब तक इसकी परीक्षा कराए जाने की घोषणा नहीं की गई.

कांग्रेस के प्रवक्ता ने कहा कि रेलवे में 64 लोको पायलट की भर्ती का परिणाम जारी कर दिया गया, लेकिन नियुक्ति पत्र जारी नहीं किए गए. 9 महीने से अधिक समय हो गए, परिणाम अब तक रोका गया है. डेढ़ साल पहले रेलवे ने नॉन टेक के 35 हजार पदों पर रिक्तियां निकाली थीं. 1.26 करोड़ युवाओं ने आवेदन किए, 500 करोड़ रुपये एकत्रित हुए, लेकिन परीक्षा तिथि की घोषणा नहीं की गई.

क्या है मामला

दरअसल प्रधानमंत्री के इस भाषण को बीजेपी के आधिकारिक यूट्यूब  पेज, पीएमओ इंडिया के आधिकारिक यूट्यूब पेज और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यूट्यूब पेज पर मन की बात कार्यक्रम का वीडियो अपलोड किया गया था. इन सभी पेज पर मन की बात कार्यक्रम को लाइक्स से ज्यादा डिस्लाइक मिले. लाइक से ज्यादा डिस्लाइक का यह सिलसिला वीडियो अपलोड होते ही शुरू हो गया था.
तब से इस मुद्दो को लेकर सोशल मीडिया पर बहस छिड़ी हुई है.

मन की बात के वीडियो को डिस्लाइक करने के पीछे युवाओं का नीट और जेईई परीक्षा रद्द ना करना एक कारण माना गया. मन की बात के वीडियो के बाद बीजेपी, पीएम मोदी और पीएमओ के कई यूट्यूब वीडियो पर इसी तरह लाइक्स से ज्यादा डिस्लाइक्स का ट्रेंड देखने को मिला.

इसके बाद बीजेपी ने अपने कई वीडियो पर लाइक्स और डिस्लाइक्स की संख्या दिखाने वाला विकल्प बंद कर दिया. कुछ भी वीडियो में कमेंट करके के विकल्प को भी ऑफ कर दिया गया.

राहुल लगातार केंद्र पर हमलावर

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने इससे पहले केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए ट्वीट कर अलग अंदाज में तंज कसा.

राहुल ने (Rahul Gandhi) अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर एक खबर साझा करते लिखा ‘न्यूनतम शासन, अधिकतम निजीकरण’ यही है मोदी सरकार की सोच.

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने एक मीडिया रिपोर्ट को साझा करते हुए लिखा- “मोदी सरकार की सोच -‘Minimum Govt Maximum Privatisation’कोविड तो बस बहाना है,  सरकारी दफ़्तरों को स्थायी ‘स्टाफ़-मुक्त’ बनाना है. युवा का भविष्य चुराना है. ‘मित्रों’ को आगे बढ़ाना है.”

इससे पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने एक बार फिर रोजगार का मसला उठाया. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने बेरोजगारी की स्थिति और कर्मचारी चयन आयोग तथा कुछ अन्य परीक्षाओं के परिणाम में कथित विलंब को लेकर शुक्रवार को मोदी सरकार पर निशाना साधा.

राहुल (Rahul Gandhi) ने ट्वीट करते हुए कहा कि मोदी सरकार रोजगार, बहाली, परीक्षा के परिणाम दो, देश के युवाओं की समस्या का समाधान दो. इससे पहले राहुल ने जीडीपी का मसला उठाते हुए मोदी सरकार को घेरने की कोशिश की थी.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें