Gujarat Exclusive > देश-विदेश > राहुल गांधी 35 सांसदों के साथ हाथरस के लिए निकले, 5 को मिली इजाजत

राहुल गांधी 35 सांसदों के साथ हाथरस के लिए निकले, 5 को मिली इजाजत

0
271

हाथरस गैंगरेप की घटना के बादल से लगातार राजनीति सरगर्मियां तेज हो गई हैं. विपक्षी दलों के नेता लगातार पीड़िता के परिवार से मिलने की कोशिश कर रहा है लेकिन हाथरस में धारा 144 लागू होने की वजह से उन्हें इजाजत नहीं मिल पा रही है. इस बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) उत्तर प्रदेश के हाथरस में पीड़िता के परिवार से मिलने के निकल गए हैं.

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के साथ कांग्रेस पार्टी के 35 सांसद भी मौजूद हैं. हालांकि फिलहाल पुलिस ने केवल पांच लोगों को हाथरस जाने की इजाजत दी है. इसी बीच कांग्रेस के कार्यकर्ता भारी संख्या में डीएनडी के पास इकट्ठे हो गए हैं. इसको देखते हुए करीब 1000 की संख्या में सुरक्षाबलों को डीएनडी के पास तैनात किया गया है.

यह भी पढ़ें: आईपीएल 2020 में दिल्ली-कोलकाता मुकाबला आज, रिषभ और रसेल पर निगाहें

प्रियंका गांधी और राहुल गांधी (Rahul Gandhi) को उत्तर प्रदेश सरकार ने हाथरस जाने की इजाजत मिली है. इसके साथ ही कहा गया है कि सोशल डिसटेंसिंग के सभी नियमों का पालन करना होगा.

पहले भी की थी मिलने की कोशिश

मालूम हो कि इससे पहले भी राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने पीड़िता के परिवार से मिलने की कोशिश की थी. जिस दौरान उन्हें प्रदेश पुलिस की सामना करना पड़ा था. डीएनडी पर हाथरस पैदल मार्च करने के दौरान राहुल के साथ पुलिस ने धक्का-मुक्की की थी जिसमें कांग्रेस नेता गिर गए थे. बाद में उन्हें हिरासत में लिया गया था और फिर मामला शांत होने के बाद उन्हें छोड़ दिया गया था.

मुख्य सचिव ने की मुलाकात

उधर हाथरस मामले में कथित रूप से सामूहिक बलात्कार पीड़िता के परिजनों से मिलने अपर मुख्य सचिव (गृह) और पुलिस महानिदेशक हाथरस पहुंचे. यह दोनों अधिकारी पीड़िता के परिजनों से मिलेंगे और वहां से लौटकर अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपेंगे.

मालूम हो कि 14 सितंबर को दलित लड़की की चार लोगों द्वारा गैंगरेप किया गया था. इसके बाद पीड़िता के साथ शारीरिक यातना दी गई. मंगलवार तड़के पीड़िता की मृत्यु हो गई थी. उसके बाद पुलिस ने जबरन उसका अंतिम संस्कार कर दिया था. इस घटना के बाद लगातार यूपी सहित देश के तमाम हिस्सों में लोगों में रोष है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें