Gujarat Exclusive > गुजरात > राजकोट में कोरोना हुआ बेकाबू, चपेट में आए 100 से ज्यादा डॉक्टर

राजकोट में कोरोना हुआ बेकाबू, चपेट में आए 100 से ज्यादा डॉक्टर

0
524
  • गुजरात में दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है कोरोना का आतंक
  • कोरोना का नया हॉटस्पॉट बना राजकोट
  • 100 से ज्यादा डॉक्टर कोरोना से हुए संक्रमित
  • जिला कलेक्टर का निर्देश नियमों का पालन नहीं करने वालों पर हो कार्रवाई

राजकोट: कोरोना संक्रमण के उपचार के लिए ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर भी अब खुद घातक वायरस से संक्रमित हो रहे हैं. राजकोट में100 से अधिक डॉक्टर भी कोरोना की चपेट में आ गए हैं.

जिसके बाद गुजरात स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है.

राजकोट में जारी किया जाए अलर्ट

इस स्थिति को देखने के बाद इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की राजकोट इकाई ने अलर्ट जारी किया है. आईएमए-राजकोट ने कोविड और अन्य मर्ज का इलाज करने वाले डॉक्टरों के लिए दिशानिर्देश जारी किया है.

कोरोना संक्रमण पिछले एक महीने से सूरत, अहमदाबाद के बाद राजकोट में तेजी से फैल रहा है. दिन प्रितिदिन कोरोना के मरीजों की संख्या में होने वाली वृद्धि और मौत के मामले की वजह से प्रशासन की नींद उड़ गई है.

बड़ी संख्या में डॉक्टर भी अब कोरोना की चपेट में आ रहे हैं. जिसकी वजह से स्थिति नियंत्रण से बाहर हो गई है.

आईएमए ने डॉक्टरों के लिए जारी किया निर्देश

आईएमए की राजकोट यूनिट के अध्यक्ष डॉ. जय धीरवाणी ने कहा कि राजकोट में कोरोना का प्रसार तेजी से फैल रहा है. मरीजों के नए मामलों के साथ ही साथ मौत का आंकड़ा भी कम नहीं हो रहा है.

एसोसिएशन से जुड़े 100 से अधिक डॉक्टर भी कोरोना से संक्रमित हो गए हैं. कुछ डॉक्टरों का अस्पताल में इलाज चल रहा है. वहीं कुछ डॉक्टरों को होम आईसोलेशन में रखा गया है.

उन्होंने कहा कि हर संभव प्रयास किया जा रहा है कि ये सभी डॉक्टर जल्द से जल्द ठीक हो जाएं.

उन्होंने कहा कि राजकोट में कोरोना की स्थिति इतनी चिंताजनक स्थिति में पहुंच गई है कि अब अलर्ट जारी करना जरूरी हो गया है. सभी डॉक्टरों को इस अलर्ट के तहत 6 फीट की दूरी बनाए रखनी होगी.

हर दो घंटे में हाथ को सेनेटाइज करना होगा. N-95 मास्क और फेस शिल्ड पहनने के साथ ही साथ कई नियमों का पालन करने का निर्देश दिया गया है.

यह भी पढ़ें: अहमदाबाद: अन्य महिला के साथ पति को चैटिंग करना पड़ा महंगा, मामला दर्ज

सभी की जांच आवश्यक

आईएमए ने स्पष्ट रूप से आदेश दिया है कि, किसी भी बीमारी के लिए यदि कोई मरीज अस्पताल में भर्ती होता है तो उसका कोरोना टेस्ट अनिवार्य कर दिया गया है.

डॉक्टरों को पीपीई किट पहनना भी अनिवार्य कर दिया गया है. मरीजों के साथ एक से अधिक रिश्तेदार को अस्पताल के अंदर एंट्री नहीं दी जाएगी.

अस्पताल में भीड़ इकट्ठा होने पर रोक लगाया जाए. प्री-ऑपरेशन स्नैक पार्टी को बंद कर देना चाहिए. रोग प्रति कारक की क्षमता को बढ़ने पर भी जोर दिया गया है.

डॉक्टरों को अहमदाबाद से बुलाया गया

राजकोट में, 100 से अधिक डॉक्टर कोरोना से संक्रमित हो गए हैं जिसके बाद प्रशासन हरकत में आ गया है.

जिसकी वजह से राजकोट सिविल अस्पताल में कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए अहमदाबाद से डॉक्टरों की टीम को राजकोट बुलाया गया है.

राजकोट में कोरोना की वजह से खराब हुई स्थिति को मद्देनजर रखते हुए जिला कलेक्टर ने सभी कार्यालयों को सतर्कता दिखाने के लिए हाई अलर्ट जारी किया है.

इतना ही नहीं कोरोना को लेकर जारी दिशा-निर्देशों का पालन नहीं करने वालों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गुजरातियों के लिए खुशखबरी, आज से शुरू हुई 40 से ज्यादा एसटी प्रीमियम बसें