Gujarat Exclusive > गुजरात > केवड़िया: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कम्बाइंड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में लिया हिस्सा

केवड़िया: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कम्बाइंड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में लिया हिस्सा

0
50

Rajnath Singh in CCC: केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आज दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के पास आयोजित कंबाइंड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में भाग लेने के लिए केवड़िया पहुंचे. यहां पहुंचने पर रेंज आईजी हरिकृष्ण पटेल और नर्मदा जिला पुलिस अधीक्षक हिमकर सिंह ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया. Rajnath Singh in CCC

रक्षा मंत्री हेलीकॉप्टर से केवड़िया पहुंचे और आने के बाद उन्होनें केवड़िया में बनाए गए नए हैलीपैड का निरीक्षण किया. इ‌सके बाद सबसे पहले वे सभी मिलिट्री कमांडर्स और रक्षा मंत्रालय के वरिष्ट अधिकारियों के साथ स्टेच्यू ऑफ यूनिटी पहुंचे. कुछ देर वहां रूकने के बाद वे सीधे सम्मेलन में पहुंचे. Rajnath Singh in CCC

सम्मेलन में पहुंचने के बाद सेना के तीनों अंगों (थलसेना, वायुसेना और नौसेना) के साथ साथ डिपार्टमेंट ऑफ मिलिट्री एफेयर्स (डीएमए) की तरफ से सशस्त्र सेनाओं की ऑपरेशनल तैयारियों, आधुनिकिकरण और चुनौतियों को लेकर एक प्रेजेंटेशन दिया गया. Rajnath Singh in CCC

सैन्य स्तर पर जोखिम का स्वरूप बदला

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कंबाइंड कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में अपने संबोधन में कहा कि खतरों से निपटने में सशस्त्र बलों की भूमिका आने वाले दिनों में खतरों के लिहाज से महत्वपूर्ण है. उन्होंने कहा कि सैन्य स्तर पर जोखिम का स्वरूप बदल गया है. इस दौरान राजनाथ सिंह ने पीएलए के साथ पूर्वी लद्दाख में गतिरोध के दौरान सैनिकों द्वारा दिखाए गए निस्वार्थ साहस की सराहना की. Rajnath Singh in CCC

इस दौरान उन्होंने कहा, “हम एक सुरक्षित और स्थिर वातावरण बनाने के लिए एक देश के रूप में अपनी क्षमता को मजबूत करने के ओर देख रहे हैं जो भारत की आर्थिक वृद्धि को सुविधाजनक बना सकता है. हमारी बढ़ी हुई रक्षा क्षमताएं हमें आपात स्थितियों के लिए बेहतर तैयार करने में मदद करेंगी. हमारे राष्ट्रीय हित राष्ट्रीय एकता, संप्रभुता हैं.”

राजनाथ सिंह ने कहा कि सशस्त्र बल हमारे देश के हितों की रक्षा करने में सक्षम हैं. मैं हाल ही में पूर्वी लद्दाख में सैनिकों द्वारा दिखाए गए निस्वार्थ साहस को सलाम करता हूं. Rajnath Singh in CCC

2015 के बाद चौथा सम्मेलन

बता दें कि वर्ष 2015 के बाद ये चौथा साझा सैन्य सम्मेलन है जो दिल्ली से बाहर हो रहा है. 2015 में इस सम्मेलन को नौसेना के एयरक्राफ्ट कैरियर, आईएनएस विक्रमादित्य पर आयोजित किया गया था. 2017 में देहरादून स्थित इंडियन मिलिट्री एकेडमी (आईएमए) और 2018 में जोधपुर छावनी में ये सम्मेलन आयोजित किया गया था. वर्ष 2014 तक ये कॉन्फ्रेंस राजधानी दिल्ली में ही आयोजित की जाती थी. लेकिन अपने पहले ही सम्मेलन में पीएम मोदी ने कॉन्फ्रेंस को दिल्ली से बाहर किसी ऑपरेशन्ल एरिया में करने का सुझाव दिया था. Rajnath Singh in CCC

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें