Gujarat Exclusive > देश-विदेश > रक्षा मंत्री बोले- ‘चीन की कथनी और करनी में फर्क, भारत हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार’

रक्षा मंत्री बोले- ‘चीन की कथनी और करनी में फर्क, भारत हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार’

0
391

मॉनसून सत्र के दौरान आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने राज्यसभा में भारत-चीन सीमा विवाद पर बयान दिया. राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा कि सीमा पर भारत किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है. उन्होंने कहा कि चीन की कथनी और करनी में फर्क, लेकिन भारत किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है.

रक्षा मंत्री सिं (Rajnath Singh) ने लोकसभा में बोलने के बाद आज राज्य सभा में सीमा पर ताजा स्थिति पर बयान दिया है.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा,

चीन की किसी भी कार्रवाई का हम जवाब देंगे. चीन की ओर से उकसाने की कार्रवाई हुई है. LAC पर चीन की किसी भी कार्रवाई का जवाब देने के लिए हमारी सेना तैयार है. दुनिया में कोई ताकत नहीं जो भारतीय सेना को पेट्रोलिंग से रोक दे. चीन की हरकत की वजह से गलवान घाटी में झगड़े की स्थिति बनी.

राजनाथ सिंह ने कहा,

चीन ने केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में लगभग 38,000 वर्ग किलोमीटर जमीन पर अवैध कब्जा कर रखा है. चीन अब भी अरुणाचल प्रदेश में भारत-चीन सीमा के पूर्वी क्षेत्र में लगभग 90,000 वर्ग किलोमीटर भारतीय क्षेत्र का दावा करता है.”

राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने कहा कि हमारे सशस्त्र बलों ने स्पष्ट रूप से नियमों का पालन किया है, जबकि चीन इससे पीछे हटा. रक्षा मंत्री ने कहा कि चीन की कार्रवाई हमारे विभिन्न द्विपक्षीय समझौतों की अवहेलना है. चीन द्वारा सैनिकों की कार्रवाई 1993 और 1996 के समझौतों के खिलाफ है. वास्तविक नियंत्रण रेखा का सम्मान और कड़ाई से निरीक्षण करना सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति का आधार है.

यह भी पढ़ें: सर कटा सकती हूं, लेकिन सर झुका सकती नहीं! मैं एक क्षत्राणी हूं: रनौत

राजनाथ (Rajnath Singh) ने कहा, “भारत और चीन दोनों ने औपचारिक तौर पर यह माना है कि सीमा विवाद एक जटिल मुद्दा है जिसके समाधान के लिए शांति की आवश्यकता है. इस मुद्दे का समाधान, शांतिपूर्ण बातचीत के द्वारा निकाला जाए. हमने चीन को डिप्लोमेटिक और मिलिट्री चैनल के माध्यम से यह अवगत करा दिया कि इस प्रकार की गतिविधियां, स्थिति को एक तरफा बदलने का प्रयास है. यह भी साफ कर दिया गया कि ये प्रयास हमें किसी भी सूरत में मंजूर नहीं है.”

रक्षा मंत्री ने कहा,

मैं सदन से यह अनुरोध करता हूं कि हमारे वीर जवानों की वीरता और बहादुरी की प्रशंसा करनी चाहिए. हमारे बहादुर जवान अत्यंत मुश्किल परिस्थतियों में अपने अथक प्रयास से समस्त देशवासियों को सुरक्षित रख रहे हैं. मैं देशवासियों को यह विश्वास दिलाना चाहता हूं कि हमारे आर्म्ड फोर्स के जवानों का जोश और हौसला बुलंद है. हमारे जवान किसी भी संकट का सामना करने के लिए दृढ़ प्रतिज्ञ हैं. इस सदन से दिया गया, एकता और पूर्ण विश्वास का संदेश, पूरे पूरे विश्व में गूंजेगा. और हमारे जवान, जो कि चीनी सेनाओं से आंख से आंख मिलाकर अडिग खड़े हैं, उनमें एक नए मनोबल, ऊर्जा व उत्साह का संचार होगा.”

लोकसभा में भी दिया था बयान

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने मंगलवार को लोकसभा में कहा था कि मौजूदा स्थिति के अनुसार चीनी सेना ने एलएसी के अंदर बड़ी संख्या में जवानों और हथियारों को तैनात किया है. सिंह (Rajnath Singh) ने कहा कि पूर्वी लद्दाख में गोगरा, कोंगका ला और पैंगोंग झील के उत्तरी एवं दक्षिणी तट सहित क्षेत्र में दोनों देशों के सैनिकों के बीच टकराव के कई बिंदु हैं.

सीमा पर हालात तनावपूर्ण

मालूम हो कि गलवान में हुई हिंसक झड़प के बाद भारत और चीन के बीच सीमा पर हालात नाजुक बने हुए हैं. उस झड़प में 20 भारतीय सैनिर शहीद हुए थे जबकि चीनी सेना को भी भारी नुकसान हुआ था. फिलहाल मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक चीन ने सीमा पर भारी संख्या में सैनिकों को तैनात कर रखा है. वहीं भारत ने भी सीमा पर अपनी ताकत बढ़ा दी है और भारतीय सेना लगातार सीमा पर नजर बनाए रख रहा है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें