Gujarat Exclusive > देश-विदेश > राम मंदिर निर्माण के लिए गठित ट्रस्ट की बैठक कल, कई अहम विषयों पर होगी चर्चा

राम मंदिर निर्माण के लिए गठित ट्रस्ट की बैठक कल, कई अहम विषयों पर होगी चर्चा

0
393

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए गठित ट्रस्ट की 19 फरवरी को एक अहम बैठक होने जा रही है जिसमें अयोध्या के मास्टर प्लान पर विचार किया जा सकता है. इस बैठक में मंदिर निर्माण के अलावा जमीन के विस्तार को लेकर भी फैसला हो सकता है. ट्रस्ट की पहली बैठक 19 फरवरी को शाम 5 बजे होगी. खबरों के मुताबिक इस बैठक में राम मंदिर बनाने के साथ ही ट्रस्ट बृहद राम कॉम्प्लेक्स बनाने पर भी विचार करेगी. साथ ही मंदिर निर्माण का जिम्मा किस कंपनी को सौंपा जाए इस पर भी ट्रस्ट की पहली बैठक में फैसला हो सकता है.

बैठक में ट्रस्ट मंदिर के लिए और जमीन लेने पर विचार कर सकती है जिससे मंदिर का कैंपस सरयू नहीं तक पहुंच सके. ट्रस्ट सूत्रों के मुताबिक राम मंदिर से भूमि पूजन 25 मार्च से 8 अप्रैल की बीच किया जा सकता है. हालांकि मंदिर के निर्माण कार्य को आरंभ होने में अभी कुछ समय लग सकता है. ट्रस्ट अपने गठन के बाद से मंदिर निर्माण की प्रक्रिया शुरू कर चुका है.

ट्रस्ट पूरे जमीन की पैमाइश कराने उसका समतलीकरण कराने के साथ-साथ मंदिर निर्माण स्थल की मिट्टी जांच कराने के लिए भूगर्भ शास्त्रियों की राय लेने और वास्तु शास्त्रियों से राय लेने की अपनी प्रक्रिया शुरू कर चुका है. ट्रस्ट के सदस्य अलग-अलग जगहों पर वकीलों, भूगर्भ शास्त्रियों, आर्किटेक्ट और सिविल इंजीनियर से मंदिर निर्माण के संबंध में राय लेने में जुट गए हैं. ट्रस्ट चाहता है कि मंदिर का निर्माण भव्य रूप से किया जाए. हालांकि फिलहाल जो मॉडल है वह छोटा है. ऐसे में सबसे पहले ट्रस्ट मंदिर निर्माण की तिथि को तय करेगा और जो मॉडल राम मंदिर का है उसी को और कितना विशाल और भव्य बनाया जा सकता है.

राम मंदिर निर्माण शुरू करने से पहले रामलला विराजमान को विस्थापित कर कहां रखा जाए इस पहलू पर विचार करेगा. मौजूदा समय में जो सुरक्षा है उस सुरक्षा को क्या बहाल रखा जाए या उसको बदला जाए इस पर ट्रस्ट निर्णय करेगा. ट्रस्ट इस बात पर भी विचार करेगा कि राम मंदिर के पूरे निर्माण को कैसे भव्य बनाया जाए. ट्रस्ट के सदस्य कामेश्वर चौपाल का कहना है कि इतने सारे काम हैं कि एक बैठक में सभी निर्णय नहीं हो सकते.

बैठक से पहले ट्रस्ट कानूनी और तकनीकी राय लेने में जुटा हुआ है. इसमें ट्रस्ट का साथ विश्व हिंदू परिषद और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कई वरिष्ठ नेता दे रहे हैं. ट्रस्ट अपनी पहली बैठक में कानूनी पहलुओं पर विचार करेगा.