Gujarat Exclusive > देश-विदेश > भारत की आस्था और भारत के आदर्शों में राम हैं: पीएम मोदी

भारत की आस्था और भारत के आदर्शों में राम हैं: पीएम मोदी

0
464

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर निर्माण की आधारशिला रखी. इस दौरान मंदिर परिसर ‘जय श्रीराम’ के नारों से गूंज उठा. मंदिर निर्माण को लेकर होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम के बाद पीएम मोदी ने देश को संबोधित किया है.

संबोधन से पहले उन्होंने सियावर रामचंद्र की जय’ के नारे लगाए इस मौके पर उन्होंने देश विदेश में रहने वाले तमाम राम भक्तों को बधाई देते हुए कहा कि इस खास मौके पर राम नगरी में मौजूद रहकर राम मंदिर निर्माण के लिए होने वाले भूमि पूजन में हिस्सा लेना मेरे लिए सौभाग्य की बात है. उन्होंने कहा कि आज होने वाले इस पहले से देशवासियों का सदियों पुराना इंतजार खत्म हो रहा है.

उन्होंने कहा कि अयोध्या में मंदिर निर्माण होने के बाद अयोध्या की अर्थव्यवस्था बिल्कुल बदल जाएगी. देश-विदेश में रहने वाले श्रद्धालु अयोध्या आएंगे जिससे यहां रहने वाले लोगों को कई नए मौके भी मिलेंगे.

उन्होंने कहा कि आज का दिन ऐतिहासिक है बावजूद इसके कोरोना संकटकाल की वजह से मर्यादा के साथ मनाया जा रहा है. सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर को लेकर ऐतिहासिक फैसला सुनाया था उस दौरान भी देशवासियों ने मर्यादा दिखाया था. मंदिर निर्माण से सिर्फ इतिहास नहीं लिखा जा रहा बल्कि इतिहास को दोहराया भी जा रहा है.

यह भी पढ़ें: ‘राम मंदिर शिलान्यास मान्यताओं के विपरीत, क्षमा करना प्रभु’

उन्होंने संबोधित करते हुए कहा कि देश भर के लोगों के सहयोग से राम मंदिर निर्माण का काम शुरू किया गया है. भारत की आस्था और सामुहिकता की शक्ति पूरी दुनिया के लिए शोध का विषय बन गया है. भगवान राम का गुणगान करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि श्रीराम सत्य पर अडिग थे. इसीलीए वह भारत का प्रकाश स्तंभ बने हुए हैं. राम आज भारत में विभिन्न रुपों में मिल रहे हैं. राम आज भारत में अनेकता में एकता की मिशाल हैं.

पीएम मोदी ने इंडोनेशिया का उल्लेख करते हुए कहा कि वहां भी रामायण का मंचन होता है वहां आज भी राम पूज्यनीय हैं. ईरान और चीन में भी राम का अस्तित्व है नेपाल और श्रीलंका में राम अस्था से जुड़े हुए हैं. इन देशों में रहने वाले राम भक्तों को भारत में मंदिर निर्माण का काम शुरू होने से खुशी मिल रही होगी.

उन्होंने कहा कि राम मंदिर निर्माण भारतीय विरासत को दिखाने वाला होगा. इतना ही नहीं मंदिर पूरी मानवता को प्रेरणा देने वाला होगा. भगवान राम का चरण जहां-जहां पड़े वहां भगवान राम सर्किट बनाया जा रहा है. राम की नीति और रीति भारत को मार्गदर्शन देती रहेगी. महात्मा गांधी ने भी रामराज्य का सपना देखा था. राम हमें समय के साथ चलना सिखाते हैं. राम आधुनिकता के पक्षधर हैं. उनके बताए रास्ते पर भारत आज आगे बढ़ रहा है. उन्होंने हमें विरोध से निकलकर शोध का रास्ता दिखाया है. जब-जब मानवता को माना गया है विकास हुआ है और जब भटके हैं तो विनाश हुआ है.

हमें आत्मसंकल्प से भारत को आत्मनिर्भर भारत बनाना है. मुझे विश्वास है कि हम सब आगे बढ़ेंगे. मोदी ने अंत में तमाम लोगों को बधाई दी उन्होंने अपने प्रवचन सियावर रामचंद्र की जय के नारे के साथ खत्म किया साथ ही साथ उन्होंने कहा कि हम भगवान राम से प्रार्थना करते हैं कि भारत में कोरोना जल्द से जल्द खत्म हो जाए.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

जब राम लला के आगे साष्टांग दंडवत हुए पीएम मोदी