Gujarat Exclusive > राजनीति > रविशंकर प्रसाद बोले- अपना राजनीतिक वजूद बचाने के लिए किसानों का सहारा ले रहा विपक्ष

रविशंकर प्रसाद बोले- अपना राजनीतिक वजूद बचाने के लिए किसानों का सहारा ले रहा विपक्ष

0
424

देश की राजधानी दिल्ली के सीमा पर किसान संगठनों का विरोध प्रदर्शन जारी है. इसी सिलसिले में किसान संगठनों ने मंगलवार को भारत बंद का ऐलान किया है. इस बीच भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने कहा कि विपक्ष किसानों के आंदोलन की आड़ में अपना राजनीति वजूद बचाने की कोशिश कर रहा है.

रविशंकर (Ravi Shankar Prasad) ने कहा, ये लगातार चुनाव हार रहे हैं, इसलिए सरकार के विरोध में खड़े हो जाते हैं और अपने अतीत को भूलते हुए अपने वादे भूल जाते हैं.

यह भी पढ़ें: धरने पर बैठे अखिलेश यादव को हिरासत में लिया गया, योगी सरकार ने रोकी किसान यात्रा

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा,

किसान आंदोलन में कूदे विपक्षी दलों का दोहरा और शर्मनाक रवैया सामने आया है. ये दल अपना राजनीतिक वजूद बचाने के लिए आंदोलन के साथ आए हैं. विपक्ष दलों का काम सिर्फ मोदी सरकार का विरोध करना ही रह गया है.

बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने कहा कि कांग्रेस ने 2014 के मैनिफेस्टो में APMC एक्ट को समाप्त करेगी. 2014 में कांग्रेस ने अपने मैनिफेस्टो में इंग्लिश में लिखा हैं कि APMC एक्ट को Repeal करेगी और हिंदी में लिखा कि हम इस कानून में संशोधन करेंगे, जो हम कर रहे हैं.

केंद्रीय मंत्री रविशंकर (Ravi Shankar Prasad) प्रसाद ने कहा,

‘राहुल गांधी ने 2013 में कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाई थी, जिसमें कहा था कि किसान मंडियों को फ्री कर देना चाहिए. पूर्व कृषि मंत्री शरद पवार ने APMC एक्ट से बदलने से लेकर किसान मंडियों को फ्री करने के लिए कई मुख्यमंत्रियों को चिट्ठी लिखी थी.’

कांग्रेस के सहयोगी दलों पर हमला

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि हम विपक्षी दलों, विशेषकर कांग्रेस, NCP और उनके सहयोगी दलों के शर्मनाक दोहरे चरित्र को देश के सामने बताने आए हैं. जब इनका राजनीतिक वजूद खत्म हो रहा है तो अपना वजूद बचाने के लिए ये किसी भी विरोधी आंदोलन में शामिल हो जाते हैं. रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि जो हमने किया, यूपीए की सरकार भी वही कर रही थी.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें