Gujarat Exclusive > राजनीति > रविशंकर प्रसाद का बड़ा आरोप- यूपीए के राज में बिना डील के नहीं होती थी कोई डील

रविशंकर प्रसाद का बड़ा आरोप- यूपीए के राज में बिना डील के नहीं होती थी कोई डील

0
228

भाजपा नेता और केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravishankar Prasad) ने अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाले में घूसखोरी को लेकर कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा है. मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में रविशंकर प्रसाद (Ravishankar Prasad) ने कहा कि जब भी आप सेना में कीकबैक की बात सुनेंगे तो आपको कांग्रेस की याद आएगी. पहले बिना कीकबैक के कोई काम नहीं होता था.

भाजपा नेता रविशंकर ने कहा,

बिना किकबैक के कोई काम नहीं होता था. बिना डील के कोई डील नहीं होती थी और बिना कांग्रेस नेताओं को कट दिए कोई कांट्रैक्ट नहीं होता था.

उन्होंने कहा कि साल 2013 में इस पर सीबीआई जांच के आदेश दिए गए थे. लेकिन, यूपीए की विरासत खत्म ही नहीं होती है. 6 साल में हमें सत्ता में आए हो गए हैं लेकिन यूपीए सरकार के कारनामे अब भी सामने आ रहे हैं.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान में कोरोना की दूसरी लहर का खतरा, सार्वजनिक समारोह पर लगा प्रतिबंध

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravishankar Prasad) ने कहा,

राजीव सक्सेना ने ईडी को बताया कि पैसे नेताओं और टॉप अधिकारियों को दिए गए थे. टोटल कीकबैक 70 मिलियन यूरो था. अगर AP का मतलब अहमद पटेल तो FAM का मतलब भी सामने आना चाहिए. क्या FAM का मतलब फैमिली है और सब जानते हैं कि कांग्रेस पार्टी में परिवार किसका है.

गृहमंत्री के आरोपों को बताया सही

रविशंकर प्रसाद (Ravishankar Prasad) ने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह की तरफ से गुपकार को लेकर किए ट्वीट को सही बताया. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘जांच एजेंसी अपना काम कर रही है, उस मामले में हम दखल नहीं देते हैं.’ गुपकार मसले पर रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘अमित शाह ने बहुत सही ट्वीट किया है, मुफ्ती जी कहती हैं कि जब तक कश्मीर का झंडा नहीं आएगा, हम तिरंगा नहीं लहराएंगे. हमारी सेना आतंक पर भारी पड़ी है, इसलिए ये लोग घबराए हुए हैं.’

बता दें कि अमित शाह ने मंगलवार को ट्वीट करते हुए गुपकार गैंग पर हल्ला बोला और कांग्रेस नेतृत्व से सवाल पूछते हुए कहा है कि ये गैंग जम्मू-कश्मीर में विदेशी ताकतों का दखल चाहता है, हमारे राष्ट्र ध्वज का अपमान करता है? क्या सोनिया और राहुल गांधी इसका समर्थन करते हैं?

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें