Gujarat Exclusive > देश-विदेश > बढ़ती महंगाई के बीच RBI ने दिया नया झटका, रेपो रेट में 0.50 फीसद की बढ़ोतरी

बढ़ती महंगाई के बीच RBI ने दिया नया झटका, रेपो रेट में 0.50 फीसद की बढ़ोतरी

0
74

नई दिल्ली: अगस्त 2022 के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक की MPC बैठक आज समाप्त हो गई. बुधवार से तीन दिवसीय बैठक के बाद आज सुबह 10 बजे रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि महंगाई वैश्विक स्तर पर चिंता का विषय है. इसी को देखते हुए एमपीसी के सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से रेपो रेट में 0.50 फीसदी बढ़ने का निर्णय लिया है. आरबीआई की दर वृद्धि से सभी बैंक ऋण महंगे हो जाएंगे. जिसका असर होम लोन, कार लोन और पर्सनल लोन की ईएमआई पर पड़ेगा. इसका मतलब है कि आपको ऋण चुकौती के लिए अधिक मासिक किश्तों का भुगतान करना पड़ सकता है.

मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी की मीटिंग के फैसलों का ऐलान करते हुए भारतीय रिज़र्व बैंक के वर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि 2022-23 में मुद्रास्फीति 6.7% रहने का अनुमान है. 2023-24 के पहले तिमाही के लिए CPI मुद्रास्फीति 5% अनुमानित है. RBI ने तत्काल प्रभाव से रेपो रेट 50 BPS बढ़ाकर 5.4% कर दिया. 2022-23 के लिए रियल GDP विकास अनुमान 7.2% है जिसमें Q1- 16.2%, Q2- 6.2%, Q3 -4.1% और Q4- 4% व्यापक रूप से संतुलित जोखिमों के साथ होगा. 2023-24 के पहले तिमाही(Q1) में रियल GDP वृद्धि 6.7% अनुमानित है.

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने आगे जानकारी देते हुए कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था स्वाभाविक रूप से वैश्विक आर्थिक स्थिति से प्रभावित हुई है. हम उच्च मुद्रास्फीति की समस्या से जूझ रहे हैं. हमने वर्तमान वित्तीय वर्ष के दौरान 3 अगस्त तक 13.3 अरब अमेरिकी डॉलर के बड़े पोर्टफोलियो का प्रवाह देखा है.

देश में लोकतंत्र नहीं बल्कि 4 लोगों की तानाशाही, हिटलर भी चुनाव जीतकर आया था: राहुल गांधी