Gujarat Exclusive > यूथ > ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक की जमानत याचिका खारिज

ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती और उनके भाई शौविक की जमानत याचिका खारिज

0
413

सुशांत सिंह राजपूत और इससे जुड़े ड्रग्स के केस में रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) की जमानत याचिका शुक्रवार को खारिज हो गई है. इस मामले में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने रिया (Rhea Chakraborty) को मंगलवार को गिरफ्तार किया था. एनसीबी ने गुरुवार को जमानत याचिका पर हुई सुनवाई में इसका विरोध किया था.

एंटी-ड्रग्स एजेंसी की ओर से दलील में कहा गया कि ‘रिया चक्रवर्ती को उनके बॉयफ्रेंड सुशांत सिंह राजपूत के ड्रग्स इस्तेमाल की पूरी जानकारी थी और वो खुद भी ड्रग्स खरीदकर इसमें हिस्सा लेती थीं.’

आज सेशंस कोर्ट ने रिया (Rhea Chakraborty) की जमानत याचिका पर सुनवाई हुई. कोर्ट ने रिया के अलावा उनके भाई शौविक चक्रवर्ती, सैमुअल, दीपेश, बासित और जैद की जमानत याचिका भी खारिज कर दी है.

14 दिनों की न्यायित हिरासत में हैं रिया

कोर्ट ने दो दिन की सुनवाई के बाद कोर्ट ने रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) और उनके भाई शौविक चक्रवर्ती समेत 6 लोगों की जमानत याचिका पर फैसला सुनाया है. एनडीपीएस कोर्ट रिया चक्रवर्ती को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था.

यह भी पढ़ें: सुशांत मामले पर शिवसेना का आरोप, बिहार चुनाव जीतने के लिए हो रही राजनीति

एनडीपीएस कोर्ट ने रिया (Rhea Chakraborty) को 22 सितंबर तक एनसीबी की न्यायिक हिरासत दी थी. फैसला देर रात आने की वजह से उन्हें एक रात एनसीबी ऑफिस में बने लॉकअप में गुजारनी पड़ी थी. उसके अगले दिन यानि 9 सिंतबर को उन्हें मुंबई की भायखला जेल में शिफ्ट किया गया था. वह पिछले दो दिनों से यहां एक कैदी तरह रह रही हैं.

बॉम्बे हाईकोर्ट का विकल्प मौजूद

अब रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के पास बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दायर करने का विकल्प है. हालांकि जबतक कोर्ट से सुनवाई का वक्त नहीं मिलता, तबतक वह भायखला जेल में ही रहेंगी. रिया की एनडीपीएस एक्ट की धारा 16/20 के तहत गिरफ्तारी हुई है.

ड्रग्स मामले एनसीबी ने कुल 10 लोगों को गिरफ्तार किया है. फिलहाल किसी को जमानत नहीं मिली है. रिया (Rhea Chakraborty) फिलहाल मुबंई के भायखला जेल हैं. उनके वकील सतीश मानशिंदे ने कहा है कि वो हाईकोर्ट जाने के विकल्प पर अगले हफ्ते तक फैसला करेंगे.

इस दौरान उनके वकील सतीश मानशिंदे ने सेशन कोर्ट में रिया (Rhea Chakraborty) और उनके भाई शौविक की जमानत याचिका दायर की थी. जिस पर दो दिन तक सुनवाई हुई है. सुनवाई के दौरान एनसीबी ने रिया और शौविक की जमानत का कड़ा विरोध जताया था. उन्होंने कोर्ट में कहा था कि ये दोनों सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं. हालांकि सतीश मानशिंदे ने दावा किया कि एनसीबी ने रिया को बयान के देने के लिए दबाव बनाया. उन्होंने रिया की मानसिक स्थिति बिगड़ने का भी अनुमान जताया है. उन्होंने कहा कि रिया के पास कोई ड्रग्स बरामद नहीं हुआ है.

शौविक ने दिया रिया का साथ

सतीश मानशिंदे ने दावा कि रिया (Rhea Chakraborty) ने अदालत की सभी शर्तों का मानती हुई हैं. वहीं एनसीबी ने अपनी रिमांड कॉपी में बताया गया कि हालांकि उनके भाई शौविक ने बताया था कि वह ड्रग्स की डिलीवरी में रिया का साथ दिया करता था और उसके पेमेंट की जानकारी रिया के पास होती थी. रिया और बाकी गिरफ्तार लोगों शौविक, सैमुअल, दीपेश, कैजान, जैद, बासित के आमने-सामने बैठाकर हुई पूछताछ के आधार पर रिया की गिरफ्तारी हुई.

क्या है आरोप

एनसीबी ने कहा है कि ‘रिया चक्रवर्ती ने जो ड्रग्स खरीदे, वो उनके निजी इस्तेमाल के लिए नहीं थे, बल्कि किसी और को सप्लाई करने के लिए थे, इसलिए उनपर NDPS (Narcotic Drugs and Psychotropic Substances Act) की धारा 27A लागू होती है और वो कानून के हाथों से नहीं बच सकतीं.’

एजेंसी ने यह भी कहा कि ‘अगर आरोपियों के जमानत पर रिहा किया जाता है तो वे सबूतों के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं और समाज में अपनी हैसियत और पैसों के दम पर मामले के प्रमुख गवाहों को प्रभावित करने की कोशिश कर सकते हैं.’

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें