Gujarat Exclusive > राजनीति > तेजस्वी ने जारी किया RJD का घोषणा पत्र, रोजगार और शिक्षा को बढ़ावा देने के किए वादे

तेजस्वी ने जारी किया RJD का घोषणा पत्र, रोजगार और शिक्षा को बढ़ावा देने के किए वादे

0
311

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Assembly Election 2020) में राजनीतिक दलों द्वारा वोटरों को लुभाने की कोशिशें लगातार जारी हैं. पार्टियां अपने घोषणा पत्र के माध्यम से वोटरों को रिझाने की कोशिश कर रही हैं. इस बीच राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने घोषणा पत्र (RJD  Manifesto) जारी कर दिया है.

आरजेडी ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर घोषणा पत्र (RJD Manifesto) जारी किया है. इस दौरान नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav), सांसद मनोज झा, प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह, पार्टी नेता लवली आनंद समेत अन्य मौजूद थे. पार्टी की ओर से जारी घोषणा बिहार को बदलने के लिए 17 बिंदुओं पर काम करने का प्रण लिया गया है, जिसमें मुख्यतः रोजगार, शिक्षा, कृषि, उद्योग समेत अन्य मुद्दों को शामिल किया गया है.

यह भी पढ़ें: कोरोना: भारत में बीते 24 घंटे में कोरोना के 53 हजार नए मामले, 650 की मौत

क्या है घोषणा पत्र में

घोषणा पत्र (RJD Manifesto) में आरजेडी ने 10 लाख नौकरी देने के अपने पुराने बयान को दोहराया है. इसके अलावा पार्टी ने बेरोजगार युवाओं को 1500 रुपये बेरोजगारी भत्ता देने का वादा किया है. सरकारी नौकरियों का फॉर्म भरने के लिए बिहार के युवाओं को आवेदन शुल्क नहीं देना होगा.

सरकारी नौकरी में बिहार के युवाओं को तरजीह देने के लिए राज्य सरकार डोमिसाइल पॉलिसी लाएगी और सरकारी नौकरियों के 85 फीसदी पद बिहार के युवाओं के लिए आरक्षित होंगे. इसके अलावा आरजेडी ने किसानों का कर्ज माफ करने की घोषणा की है.

घोषणा पत्र में किसानों पर जोर

आरजेडी ने वादा किया है कि नए उद्योगों के लिए नई नीति लाई जाएगी, नए उद्योग स्थापित करने के लिए टैक्स नहीं देगा पड़ेगा. संविदा शिक्षकों और उर्दू शिक्षकों की स्थायी नियुक्ति की जाएगी. किसान आयोग, व्यावसायिक आयोग, युवा आयोग और खेल आयोग का गठन किया जाएगा. राज्य की जीडीपी का 22 प्रतिशत हिस्सा शिक्षा पर खर्च किया जाएगा. किसानों का कर्ज माफ किया जाएगा. गांवों को स्मार्ट बनाया जाएगा और सीसीटीवी लगाए जाएंगे.

साथ ही घोषणा पत्र (RJD Manifesto) के मुताबिक, बिहार की सांस्कृतिक विरासत और रचनात्मक उद्योग पर जोर देने और खेल नीति बनाने के भी वायदे किए गए हैं. आधारभूत संरचनात्मक विकास और जलवायु परिवर्तन के संबंधित प्रतिबध्दताएं को भी तरजीह देने की बात कही गई है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें