Gujarat Exclusive > गुजरात > 1 करोड़ रुपये का चरस मंगाने वाले भगोड़े इमरान को गुजरात एटीएस ने धर दबोचा

1 करोड़ रुपये का चरस मंगाने वाले भगोड़े इमरान को गुजरात एटीएस ने धर दबोचा

0
323

गुजरात एटीएस ने 1 करोड़ रुपये की चरस मामले (Rs 1 Cr Charas Case) में इमरान नामक एक शख्स को गिरफ्तार किया है. जांच से पता चला है कि ड्रग के धंधे में इमरान का एक साथी भी था जिसका नाम नितिन चिकने था और वह मुंबई का रहने वाला है.

गुजरात एटीएस ने वैगनआर कार में चरस (Rs 1 Cr Charas Case) ले जा रहे दो लोगों को धर दबोचा. जांच में पता चला कि उन्हें वातवा के रहीमनगर निवासी 34 वर्षीय इमरान मालेक ने कंसाइनमेंट लेने के लिए पंजाब भेजा था.

जांच में यह भी पता चला कि इमरान को 2011 में बांद्रा पुलिस द्वारा ड्रग के एक मामले में गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद मुंबई की आर्थर जेल से रिहा होने के बाद उसने फिर से शहर में ड्रग का कारोबार शुरू कर दिया.

यह भी पढ़ें: गुजरात कोरोना अपडेट: सूरत और अहमदाबाद की स्थिति अभी भी खराब

वह नितिन शिवाजी चिकने के साथ मिलकर इस काम में लगा हुआ था. गुजरात एटीएस ने जिस कंसाइनमेंट को पकड़ा है वह मुंबई के लिए थी. इस मामले में अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

क्या है पूरा मामला

तीन दिन पहले गुजरात एटीएस ने पंजाब के लुधियाना में एक सब्जी बाजार से 1 करोड़ रुपये के ड्रग्स (Rs 1 Cr Charas Case) के साथ दो लोगों को गिरफ्तार किया था. दोनों वैगनआर कार में ड्रग्स लेकर आ आए और पालनपुर टोल नाके के पास मलाणा गांव के एक होटल महाकाल में रुके थे.

यह कंसाइनमेंट वटवा और माहिम के निवासी इमरान की मांग पर पहुंचाई जानी थी. गुजरात एटीएस को उसी के बारे में टिप मिली थी. पुलिस ने जब वाहन की तलाशी ली तो उन्हें सेब के कई बक्से के साथ यात्री सीट पर रखे सफेद पदार्थ का एक बॉक्स मिला. जांच में पता चला कि सफेद पदार्थ चरस था (Rs 1 Cr Charas Case) जिसका वजन 16.75 किलोग्राम था और उसकी कीमत 1 करोड़ रुपये थी.

आयुर्वेदिक दवाओं के नाम पर तस्करी

इसके बाद पुलिस ने मुंबई के माहिम वेस्ट निवासी 31 वर्षीय फ़हीज बेग और औरंगाबाद के निवासी समीर शेख को गिरफ्तार किया. दोनों ने कहा कि वे इमरान के लिए कंसाइनमेंट खरीदी थी जो वटवा में रहता है.

दोनों ने बताया कि इमरान ने उन्हें लुधियाना यह कहकर भेजा था और उन्हें किसी से कुछ आयुर्वेदिक दवाएं लानी हैं. उन्होंने कहा कि उन्हें जम्मू और कश्मीर में एक ट्रक से कंसाइनमेंट मिली और वे उस लेकर वापस आ गए.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें