Gujarat Exclusive > राजनीति > एक बार फिर से आमने-सामने कांग्रेस और शिवसेना, राउत ने कहा विरोधियों को भेजा जाए अंडमान जेल

एक बार फिर से आमने-सामने कांग्रेस और शिवसेना, राउत ने कहा विरोधियों को भेजा जाए अंडमान जेल

0
338

शिवसेना के राज्यसभा सांसद और सामना के संपादक संजय राउत ने कुछ दिन पहले इंदिरा गांधी को लेकर भी एक बयान दिया था, जिसमें उन्होंने इंदिरा और अंडरवर्ल्ड डॉन करीम लाला की मुलाकात की बात की थी मामला सामने आने के बाद कांग्रेस ने जमकर इसका विरोध किया औऱ नतीजा निकला कि राउत को अपने बयान से पीछे हटना पड़ा. ऐसे में एक बार फिर से राउत ने एक ऐसा बयान दिया है जिससे कांग्रेस को बड़ा नुकशान होने की उम्मीद जताई जा रही है.

दरअसल मामला था महाराष्ट्र के मंत्री और कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चौहान के उस बयान का जिसमें उन्होंने कहा था कि वो सावकर को भारत रत्न दिए जाने का विरोध करेंगे, इस पर संजय राउत ने कहा, “पृथ्वीराज चौहान जी महाराष्ट्र के कांग्रेस नेता हैं, लेकिन भारत रत्न देने का फैसला भारत सरकार लेती है. हमारी हमेशा मांग रही है कि वीर सावरकर का सम्मान हो. चौहान साबह को पता है कि सावरकर ने कितना बड़ा त्याग किया है. जिंदगी के 14 साल अंडमान में रहना असामान्य घटना है.” राउत ने सावरकर का विरोध करने वालों को लेकर आगे कहा “जो लोग सावकर का विरोध करते हैं भारत रत्न देने के लिए, वो कोई भी हों किसी भी पार्टी के हों, किसी भी विचारधारा के हों, इन सभी को अंडमान जेल की उसी सेल्युलर सेल में दो-दो दिन रखना चाहिए. फिर वो समझेंगे कि वीर सावरकर ने देश के लिए कितना बड़ा बलिदान दिया है.”

राउत ने कहा है कि अगर सावरकर को समझने की बात कर रहे हैं तो पहले उन्हें कुछ दिन के लिए अंडमान की जेल में भेजना होगा. राउत के इस बयान को लेकर कांग्रेस और शिवसेना के बीच एक बार फिर तकरार बढ़ सकती है.बता दें कि सावरकर को लेकर कांग्रेस के सेवा दल की किताब के किए गए दावे पर भी संजय राउत ने तीखी प्रतिक्रिया दी थी. संजय राउत ने कहा था कि सावरकर महान थे और महान रहेंगे. जो लोग उनकी देशभक्ति पर सवाल उठा रहे हैं और उनकी आलोचना कर रहे हैं, उनके दिमाग में गंदगी भरी है.