Gujarat Exclusive > राजनीति > संदीप दीक्षित को मिला शशि थरुर का साथ, कांग्रेस में गांधी परिवार के खिलाफ सुगबुगाहट हुई तेज

संदीप दीक्षित को मिला शशि थरुर का साथ, कांग्रेस में गांधी परिवार के खिलाफ सुगबुगाहट हुई तेज

0
254

कांग्रेस में धीरे-धीरे ही सही, नेतृत्‍व परिवर्तन की मांग जोर पकड़ने लगी है. दिल्‍ली विधानसभा चुनाव में खात भी नहीं खोल पाने के बाद इसकी मांग मुखर रूप लेती दिख रही है. पहले दिल्‍ली के पूर्व मुख्‍यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे और पूर्व सांसद संदीप दीक्षित ने कहा कि कांग्रेस के पास नेताओं की कमी नहीं है. अब भी कांग्रेस में कम से कम 6- 8 नेता हैं जो अध्यक्ष बनकर पार्टी का नेतृत्व कर सकते हैं. पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि कभी-कभार आप निष्क्रियता चाहते हैं, क्योंकि आप नहीं चाहते हैं कि कुछ हो. और अब कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता शशि थरूर ने संदीप दीक्षित के बयान का समर्थन किया है.

शशि थरूर ने पार्टी का नया अध्यक्ष नियुक्त करने में विलंब को लेकर वरिष्ठ नेताओं पर पूर्व सांसद संदीप दीक्षित के बयान का समर्थन करते हुए कहा, कांग्रेस नेतृत्व का चुनाव कराया जाना चाहिए ताकि पार्टी कैडर में ऊर्जा का नया संचार हो सके. संदीप दीक्षित ने जो कहा है वह देश भर में पार्टी के दर्जनों नेता निजी तौर पर कह रहे हैं. इनमें से कई नेता पार्टी में जिम्मेदार पदों पर बैठे हैं.’

शशि थरूर ने यह भी कहा, ‘मैं सीडब्ल्यूसी से फिर आग्रह करता हूं कि कार्यकर्ताओं में ऊर्जा का संचार करने और मतदाताओं को प्रेरित करने के लिए नेतृत्व का चुनाव कराएं.’ दरअसल, दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के पुत्र संदीप दीक्षित ने एक अखबार को दिए साक्षात्कार में कहा है कि इतने महीनों के बाद भी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नया अध्यक्ष नहीं नियुक्त कर सके. इसका कारण यह है कि वह सब यह सोच कर डरते हैं कि बिल्ली के गले में घंटी कौन बांधे.