Gujarat Exclusive > देश-विदेश > देश के नागरिकों को नागरिकता संशोधन कानून से नहीं है कोई खतरा: मोहन भागवत

देश के नागरिकों को नागरिकता संशोधन कानून से नहीं है कोई खतरा: मोहन भागवत

0
484

विजयादशमी के मौके पर नागपुर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुख्यालय में संघ प्रमुख मोहन भागवत ने वर्षों से चली आई शस्त्र पूजा में हिस्सा लिया.

शस्त्र पूजा के बाद मोहन भागवत ने संघ कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कोरोना महामारी, नागरिकता संशोधन कानून, चीन के साथ जारी सीमा विवाद और राम मंदिर निर्माण जैसे अहम मुद्दों पर बात की.

संघ प्रमुख ने कहा कि भारत कोरोना के खिलाफ अन्य देशों के मुकाबले आज अच्छी स्थिति में है. उन्होंने कोरोना से निपटने में भारत की भूमिका की सराहना की.

चीन हमारे सद्भावना को बिल्कुल भी ना समझे दुर्बलता

मोहन भागवत ने संघ कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए चीन को बड़ा पैगाम दिया उन्होंने कहा कि आज पूरी दुनिया देख रही है कि चीन अपनी विस्तारवादी नीति को अपना रही है.

चीन का आज ताइवान, वियतनाम, अमेरिका, जापान और भारत से लड़ रहा है. लेकिन चीन के खिलाफ भारत का शासन, प्रशासन, सेना और जनता अडिग होकर खड़ाकर अपने स्वाभिमान और वीरता का परिचय दिया है.

इस मौके पर उन्होंने कहा कि हम सभी से दोस्ताना रिश्ता चाहते हैं लेकिन हमारी सद्भावना को दुर्बलता मानकर भारत को चाहे जैसा नजा ले झुका ले यह नहीं हो सकता. ऐसा दुःसाहस करने वालों को समझ में आ जाना चाहिए.

देश के नागरिकों का नागरिकता संशोधन कानून से कोई खतरा नहीं

दशहरा के मौके पर होने वाले प्रोग्राम में हिस्सा लेते हुए भागवत ने कहा कि नागरिकता संदोशन कानून संसद की प्रक्रिया के बाद लागू की गई है.

इस कानून के तहत कुछ देश जहां पर धर्म के आधार पर प्रताड़ित करने का इतिहास रहा है वहां के लोगों को नागरिकता देने की व्यवस्था की गई है.

जो लोग भारत के हैं उनके नागरिकता को कोई खतरा नहीं बावजूद इसके हमने देखा कि देश में इस कानून के खिलाफ विरोधी प्रदर्शन हुए जिससे समाज में तनाव फैला.

कोरोना महामारी

अपने संबोधन में भागवत ने कोरोना महामारी का भी उल्लेख किया उन्होंने कहा कि कोरोना की वजह से मार्च महीने में देश में राष्ट्रव्यापी तालाबंदी शुरू हुई.

इस दौरान बहुत सारे विषयों पर दुनिया में चर्चा चल रही थी लेकिन अचानक वह सारे दब गए चर्चा का स्थान महामारी ने ले लिया.

लेकिन भारत ने जिस तरीके से कोरोना के खिलाफ एक सफल जंग लड़ा है उसकी सराहना की जानी चाहिए आज भारत अन्य कोरोना प्रभावित देशों के मुकाबले अस्छी स्थिति में है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

देश में बीते 24 घंटों में 50 कोरोना के नए मामले दर्ज, 62 हजार से ज्यादा लोग हुए स्वस्थ