Gujarat Exclusive > देश-विदेश > सोनागाछी की सेक्स वर्कर्स को कोरोना ने बनाया हाईटेक, फोन सेक्स से चल रहा धंधा

सोनागाछी की सेक्स वर्कर्स को कोरोना ने बनाया हाईटेक, फोन सेक्स से चल रहा धंधा

0
2936

पूरे विश्व में कोरोना महामारी के कारण आफत आई हुई है. अर्थव्यवस्था चरमरा गई है और लोगों को दो जून की रोटी के लिए सरकार का मोहताज होना पड़ रहा है. सेक्स वर्कर्स पर भी कोरोना महामारी ने व्यापक असर छोड़ा है. खासतौर से उत्तर कोलकाता के रेड लाइट इलाके सोनागाछी में सेक्स वर्कर्स पर जिनके सामने रोजी-रोटी का गहरा संकट खड़ा हो गया है.

हालांकि सोनागाछी की कुछ सेक्स वर्कर्स ने अपने काम के तरीके को हाई-टेक किया है. कस्टमर जब कोरोना काल की वजह से दूर भाग रहे हैं तो ऐसे में ये सेक्स वर्कर्स अपने कस्टमर्स को फोन सेक्स की पेशकश कर रही हैं. इस दौरान पैसों के लेन-देन के लिए डिजिटल पेमेंट का इस्तेमाल भी किया जा रहा है.

येल स्कूल ऑफ मेडिसिन और हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के शिक्षाविदों ने ‘कोविड-19 ट्रांसमिशन ऑन इंडिया में रेड-लाइट एरिया के लगातार बंद होने के प्रभाव’ शीर्षक से एक रिसर्च किया है. रिसर्च के अनुसार, अगर लॉकडाउन को खत्म करने के बाद रेड-लाइट इलाकों को बंद रखा जाता है, तो कोलकाता में कोरोना के मामलों के चरम पर पहुंचने में 36 दिनों का अंतर आएगा.

रिचर्च के दौरान सेक्स वर्कर्स ने बताया कि पहले एक दिन में पांच कस्टमर्स से मिलते थे. इस दौरान कुछ लोग सेक्स चाहते थे, जबकि अन्य उसकी कंपनी चाहते थे. लेकिन जब मार्च में लॉकडाउन की घोषणा की गई, तो उसके सभी कस्टमर गायब हो गए. हालांकि सेक्स वर्कर्स ने बताया कि कोरोना महामारी के इस दौर में वे हाई-टेक गए हैं और कस्टमर्स से फोन सेक्स की पेशकश कर पैसे कमा रही हैं. एक सेक्स वर्कर ने बताया कि फोन सेक्स से पहले आमतौर पर बैंक में पैसे मिल जाते हैं. वीडियो कॉल के लिए जाने का रेट 500 रुपये है जो लगभग 30 मिनट तक रहता है.

गुजरात में 32 हजार से ज्यादा कोरोना संक्रमित, 24 घंटे में 618 नए मामले