Gujarat Exclusive > देश-विदेश > शाहीन बाग फायरिंग: सियासी पार्टी से रिश्ता की थ्यौरी समझाना पड़ा भारी, चुनावी ड्यूटी से डीसीपी की छुट्टी

शाहीन बाग फायरिंग: सियासी पार्टी से रिश्ता की थ्यौरी समझाना पड़ा भारी, चुनावी ड्यूटी से डीसीपी की छुट्टी

0
211

दिल्ली पुलिस ने शाहीन बाग में बीते दिनों फायरिंग करने वाले शख्स कपिल गुर्जर के आम आदमी पार्टी से जुड़े होने का दावा किया. जिसके बाद इलेक्शन कमीशन डीसीपी क्राइम राजेश देव से काफी नाराज़ है. कमीशन का कहना है कि कपिल गुर्जर से जुड़ी प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने आप का नाम लिया जोकि चुनाव को प्रभावित कर सकता है. इलेक्शन कमीशन का मानना है कि जब फायरिंग की जांच जारी है तो ऐसे में किसी पार्टी का नाम लेने की जरूरत क्यों पड़ी.

डीसीपी राजेश देव के खिलाफ कड़ा संज्ञान लेते हुए चुनाव आयोग ने बुधवार को कहा कि उनका बयान ‘पूरी तरह अवांछित’ था और उन्हें चुनावी कार्य से रोक दिया गया है. उन्होंने मीडिया के साथ जांच का ब्यौरा साझा किया था जिसमें शाहीन बाग के शूटर का संबंध आम आदमी पार्टी से दिखाया गया था. चुनाव आयोग ने कहा कि देव के व्यवहार से ‘स्वतंत्रत एवं निष्पक्ष चुनाव कराने पर असर पड़ेगा.’ देव ने मंगलवार को संवाददाताओं से कहा कि शाहीन बाग में शनिवार को गोलीबारी करने वाला कपिल आप का सदस्य है. इसके बाद आम आदमी पार्टी ने पुलिस अधिकारी के खिलाफ चुनाव आयोग का दरवाजा खटखटाया.

 

बताया जा रहा है कि राजेश देव को दिल्ली से जुड़े किसी भी चुनाव कार्य में नहीं लगाया जायेगा. दरअसल कपिल गुर्जर से जुड़ी प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान डीसीपी क्राइम ब्रांच का कहना था कि पूछताछ में कपिल गुर्जर ने बताया कि उसने और उसके पिता ने वर्ष 2019 के शुरुआती महीने में ‘आप’ की सदस्यता ली थी.