Gujarat Exclusive > देश-विदेश > देशद्रोह के आरोपों पर शेहला रशीद का पलटवार, पिता को बताया नापाक आदमी

देशद्रोह के आरोपों पर शेहला रशीद का पलटवार, पिता को बताया नापाक आदमी

0
298

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) की पूर्व छात्र नेता शेहला रशीद (Shehla Rashid) सुर्खियों में हैं. लेकिन इसबार वह अपने बयान की वजह से नहीं बल्कि उनके पिता द्वारा लगाए गए गंभीर आरोपों की वजह से सुर्खियों में हैं. शेहला रशीद (Shehla Rashid) के पिता अब्दुल रशीद शोरा ने आरोप लगाते हुए कहा है कि शेहला देश विरोधी गतिविधियों में शामिल है. हालांकि पिता के आरोपों पर शेहला ने सफाई दी है.

पिता के आरोपों पर शेहला (Shehla Rashid) ने बयान दिया, ‘किसी परिवार में ऐसा नहीं होता, जैसा मेरे परिवार में हुआ है. उन्होंने मेरे साथ-साथ मेरी मां और बहन पर भी बेबुनियाद आरोप लगाए हैं. अपने पिता पर आरोप लगाते हुए शेहला ने कहा कि वह पत्नी पर हाथ उठाने वाला, एक अपमानजनक और नापाक आदमी है.’

यह भी पढ़ें: उर्मिला मातोंडकर शिवसेना में हुईं शामिल, सीएम उद्धव की मौजूदगी में ली पार्टी की सदस्यता

बता दें कि शेहला (Shehla Rashid) ने एनआईटी श्रीनगर से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है और इसके बाद उसने इंजीनियर के तौर पर कुछ समय तक नौकरी भी की है. हालांकि इसके बाद वह सामाजिक आंदोलनों से जुड़ गईं. जम्मू-कश्मीर से ताल्लुक रखने वाली शेहला दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के छात्र संघ की उपाध्यक्ष रह चुकी हैं. शेहला सबसे पहले नेशनल कॉन्फ्रेंस में शामिल हुई थी, इसके बाद शेहला ने शाह फैसल की जेकेपीएम पार्टी को ज्वाइन कर लिया था. इसके बाद शेहला ने राजनीति से संन्यास ले लिया था.

पिता ने क्या लगाए हैं आरोप

बता दें कि शेहला रशीद (Shehla Rashid) के पिता ने जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को चिट्ठी लिखी है. इसमें कहा गया है कि उनकी बेटी देश विरोधी गतिविधियों में शामिल है. इसके साथ ही उन्होंने अपनी बेटियों और पत्नी से जान का खतरा होने का आरोप भी लगाया है. पिता ने आरोप लगाते हुए दावा किया कि शेहला को विदेश से 3 करोड़ रुपये का ऑफर दिया गया. कारोबारी जहूर अमहद शाह वटाली ने शेहला को जेकेपीएम पार्टी में शामिल होने के लिए 3 करोड़ रुपये का प्रस्ताव दिया था.

विवादों से पुराना नाता

ये पहला मौका नहीं है जब शेहला (Shehla Rashid) का नाम विवादों से जुड़ा है. फरवरी 2016 में जेएनयू के तत्कालीन छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार और उमर खालिद के राजद्रोह के आरोप में गिरफ्तार होने के बाद शेहला ने कई प्रदर्शन किए थे. इसके अलावा शेहला ने 18 अगस्त 2019 को कई ट्वीट करते हुए सेना पर सवाल खड़े किए थे और कश्मीरियों पर अत्याचार करने के आरोप लगाए थे. हालांकि सेना ने इन आरोपों को खारिज कर दिया था. इसके बाद दिल्ली पुलिस ने शेहला रशीद के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज किया था. साथ ही उन्होंने अनुच्छेद 370 हटाए जाने का विरोध किया था. शेहला रशीद को कई बार भारत विरोधी बयानबाजी करते हुए भी देखा गया है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें