Gujarat Exclusive > गुजरात > BRTS चालक: यात्रियों की जान बचाने में सफल, लेकिन खुद की जान बचाने में असफल

BRTS चालक: यात्रियों की जान बचाने में सफल, लेकिन खुद की जान बचाने में असफल

0
254
  • BRTS चालक की होशियारी से बची कई यात्रियों की जान
  • लेकिन खुद की जान बचाने में चालक हुआ असफल
  • सीने में दर्द होने की शिकायत के बाद बस को करा दिया खाली

सूरत: बीआरटीएस बस चालक अक्सर लापरवाही से ड्राइविंग कर लोगों को दुर्घटना का शिकार बनाते हैं. ऐसी खबर तो गुजरात के लोग हमेशा सुनते हैं.

ऐसी खबरों से सूरत अलग नहीं है. लेकिन सूरत के एक बीआरटीएस ड्राइवर ने कुछ ऐसा किया कि उसकी तारीफ करते नहीं थक रहे. लेकिन अफसोस की बात यह है कि उस ड्राइवर की ऐसा करते हुए मौत हो गई.

बीआरटीएस चालक ने यात्रियों की जान तो बचा ली, लेकिन खुद की जान बचाने में नाकाम रहा.

इस घटना के बाद साफ हो गया है कि बीआरटीएस चालक सिर्फ दुर्घटना ही नहीं करते बल्कि लोगों की जान भी बचाते हैं.

अचानक सीने में दर्द होने के बाद चालक की मौत

सूरत के BRTS सेवा के सोमेश्वर से अमाज़िया रूट की BRTS बस अशोक करसनभाई चलाते हैं. वह बस लेकर वीआईपी रोड श्याम मंदिर से अलथान चार रास्ता की ओर जा रहे थे.

इसी दौरान उनके सीने में अचानक दर्द होने लगा.

BRTS चालक की होशियारी से बची कई यात्रियों की जान

उन्हे जब लगा कि उनके साथ कुछ गलत हो रहा है तो वह बस को किनारे पर खड़ा किया और बीआरटीएस पर्यवेक्षक को सूचित किया.

यात्रियों को उन्होंने अपने स्वास्थ्य के बारे में जानकारी देकर बस से उतार दिया. पर्यवेक्षक ने घटना की गंभीरता को देखते हुए मामले की जानकारी 108 एम्बुलेंस को दी.

मामले की जानकारी मिलने के बाद मौके एम्बुलेंस पहुंची लेकिन तबतक अशोकभाई की मौत हो चुकी थी. खटोदरा पुलिस ने अशोकभाई की मौत का सही कारण जानने के लिए पोस्टमॉर्टम करवाया.

उल्लेखनीय है कि अहमदाबाद, सूरत और राजकोट में लापरवाही से बीआरटीएस बस चालने की वजह से अक्सर दुर्घटना की खबर सामने आती है.

लेकिन सूरत में बीआरटीएस बस ड्राइवर की होशियारी से कई लोगों की जान बच गई. उन्होंने यात्रियों की जान तो बचा ली लेकिन खुद की जान बचाने में असफल हो गए.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गुजरात में कोरोना के बढ़ते कहर पर लगाम, बीते 24 घंटों में1302 नए मामले और 9 की मौत