Gujarat Exclusive > गुजरात > सूरत में इमारत गिरने से 3 की मौत, बिल्डर के खिलाफ मामला दर्ज

सूरत में इमारत गिरने से 3 की मौत, बिल्डर के खिलाफ मामला दर्ज

0
975
  • रांदेर में 35 साल पुरानी इमारत हुई धराशाई surat
  • खाली बिल्डिंग के नीचे सो रहे मजदूर बने शिकार
  • बिल्डर के खिलाफ मामला हुआ दर्ज

सूरत: शहर के रांदेर इलाके में मौजूद जर्जरित निरंजन अपार्टमेंट का एक हिस्सा गिरने से तीन मजदूरों की मौत हो गई. मंगलवार तड़के जर्जर इमारत का हिस्सा ढहने से श्रमिक गंभीर रूप से घायल हो गए थे.

जिसके बाद घायल श्रमिकों को सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां इलाज के दौरान श्रमिकों की मौत हो गई. surat

घटना के बाद जीवराज चाय के मालिक और बिल्डर के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है.surat

सूरत के रांदेर इलाके में मौजूद 35 साल पुरानी इमारत का कुछ हिस्सा मंगलवार सुबह अचानक ढह गया. हादसे की जानकारी मिलने के बाद दमकलकर्मियों ने मलबे के नीचे फंसे तीन मजदूरों को निकाल लिया.

घायल श्रमिकों को108 के जरिय सूरत सिविल ले जाया गया. जहां डॉक्टरों ने उन्हे मृत घोषित कर दिया. surat

खाली बिल्डिंग के नीचे सो रहे थे मजदूरsurat

35 साल पुराने जर्जर इमारत को नगरपालिका ने पहले से ही खाली करा दिया था. जिसकी वजह से बड़ा हादसा होते होते बच गया. लेकिन इमारत के नीचे सो रहे श्रमिकों की इस हादसे में मौत हो गई.

इस पूरी घटना के बाद सूरत नगर निगम के आला अधिकारियों में हड़कंप मच गया. मनपा आयुक्त बंछानिधि पानी ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं. surat

उन्होंने कहा कि जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी और घटना में शामिल लोगों को किसी भी सूरत में बक्शा नहीं जाएगा.surat

यह भी पढ़ें: गुजरात: मंत्रियों सहित विधायकों के वेतन में कटौती, विधानसभा में पास हुआ बिल

बिल्डिंग को गिराने के लिए बिल्डर को दिया गया था नोटिस surat

मिल रही जानकारी के अनुसार निरंजना एपार्टमेंट पिछले कुछ सालों से जर्जर हो गया था. सूरत नगर निगम की टीम ने इस इमारत को खाली कराने के साथ तोड़ने का नोटिस बिल्डर को दिया था.

लेकिन बिल्डर की उदासीनता और लापरवाही के कारण आज तीन श्रमिकों की मौत हो गई. surat

जीवराज चाय का मालिक इमारत का बिल्डर

1985 में बनी इस 7 मंजिला इमारत के बिल्डर जीवराज चाय का मालिक विजय शाह है. पुलिस ने घटना में तीन लोगों की हत्या के लिए विजय शाह के खिलाफ शिकायत दर्ज की है.

जर्जर इमारत को खाली कर दिया गया था. बावजूद इसके इमारत के नीचे मौजूद दुकानों को चालू रखा गया था.

ऐसे में अगर यह दुर्घटना दिन में घटित होती तो इससे भी भयंकर परिणाम का अंदाजा लगया जा सकता है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

GPCB के अधिकारियों की खुली आंख, चिरिपाल ग्रुप की फैक्ट्री को बंद करने का आदेश