Gujarat Exclusive > गुजरात > सूरत मनपा ने नवरात्रि को लेकर जारी किया टेंडर, विवाद होने पर स्थगित

सूरत मनपा ने नवरात्रि को लेकर जारी किया टेंडर, विवाद होने पर स्थगित

0
405
  • 1 अक्टूबर तक टेंडर भरकर जमा करवाना था
  • सूरत मनपा ने जारी टेंडर में 2 लाख डिपोजिट जमा करने की रखी गई थी शर्त

सूरत: गुजरात में कोरोना का कहर हर दिन बढ़ता जा रहा है. ऐसे में त्योहारी सीजन आते ही सरकार की चिंता बढ़ गई है. गुरुवार को सूरत नगर पालिका ने नवरात्रि के लिए टेंडर जारी कर दिया है.

लेकिन कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच मनपा के इस टेंडर पर विवाद बढ़ने के बाद फौरन इस प्रक्रिया को स्थगित कर दिया है.

कोरोना संकट के बीच शुरू की गई टेंडर की प्रक्रिया

कोरोना महामारी के कारण इस साल लगभग तमाम त्योहारों पर ग्रहण लग गया है. अगले महीने आने वाले नवरात्रि त्योहार से पहले अटकलें तेज हो गई हैं.

एक तरफ राज्य सरकार कोरोना संकट के बीच नवरात्रि की योजना को लेकर अपनी स्थिति साफ नहीं कर पा रही है.

वहीं दूसरी तरफ सूरत नगर निगम ने नवरात्रि का आयोजन करने के लिए इनडोर स्टेडियम किराए पर देने के लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू की गई थी.

लेकिन विवाद की स्थिति पैदा होने के बाद फौरन ही मनपा ने अपने इस फैसले को रद्द कर दिया है.

सूरत: 17 से 25 अक्टूबर को मनाया जाएगा नवरात्रि का पर्व

सूरत में नवरात्रि के मौके पर गरबा खेलने वाले लोगों के लिए बड़ा आयोजन किया जाता है. इसके लिए सूरत नगर निगम की स्वामित्व वाले इनडोर स्टेडियम में गरबा का आयोजन किया जाता है.

इस साल नवरात्रि 17 से 25 अक्टूबर के बीच मनाई जाएगी. सूरत नगर निगम नौ दिनों के लिए इनडोर स्टेडियम को किराए पर देने के लिए एक निविदा जारी कर ऑफर मांगा गया था.

यह भी पढ़ें: गुजरात में एमडी ड्रग्स का सप्लाई करने वाला माफिया गिरफ्तार, पुत्र फिदा हुआ फरार

कोरोना संकटकाल में मनपा के इस पहल पर चर्चा शुरू हो गई. वहीं कुछ लोगों ने मनपा के इस फैसले का विरोध भी किया जिसके बाद फौरन इस प्रक्रिया को रद्द कर दिया गया.

राज्य सरकार अभी तक नवरात्रि के मौके पर होने वाले गरबा के आयोजन को लेकर कोई फैसला नहीं कर पाई है.

ऐसे में सवाल यह उठता है कि सूरत मनपा सरकार से आगे निकलकर ऐसा फैसला कैसे कर सकती है.

पूर्व आयोजन को लेकर जारी की गई टेंडर प्रक्रिया: मनपा

सूरत मनपा स्टैंडिंग कमेटी के चेयरमैन अनिल गोपलानी ने इस सिलसिले में जानकारी देते हुए कहा अगर सरकार मंजूरी दे देती है तो बिल्कुल आखरी वक्त में हंगामा की स्थिति पैदा ना हो इसलिए यह प्रक्रिया शुरू की गई थी.

लेकिन सरकार की ओर से जबतक कोई आदेश नहीं आता तबतक टेंडरिंग की इस प्रक्रिया को बंद रखा जाएगा.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

राज्यसभा सांसद अभय भारद्वाज की हालत गंभीर, विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम कर रही इलाज