Gujarat Exclusive > गुजरात > सिंघम के तेवर में नजर आई सूरत पुलिस, सड़क पर लेटाकर की युवक की पिटाई

सिंघम के तेवर में नजर आई सूरत पुलिस, सड़क पर लेटाकर की युवक की पिटाई

0
941
  • डिंडोली पुलिस का सोशल मीडिया पर वीडियो हो रहा है वायरल surat police
  • युवक पर सड़क पर पटकर की गई पिटाई
  • डिंडोली पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर ने दी सफाई surat police

सूरत: शहर की पुलिस एक बार फिर विवादों में घिर गई है. सूरत के डिंडोली इलाके का दो वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

जिसमें एक वीडियो में पुलिस पटकर बेरहमी से पिटाई कर रही है. सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने एक बयान जारी कर सफाई दिया है. surat police

पुलिस के अनुसार “वह व्यक्ति अपनी पत्नी के साथ विवाद कर रहा था इसलिए उसे हिरासत में लिया गया था.”

सड़क पर लेटाकर युवक की पिटाई surat police

पुलिस अपना काम ईमानदारी से कर रही है. लोगों के बीच पुलिसकर्मी छवि अच्छी बनी रहे और जनता पुलिस के बीच आपसी रिश्ता अच्छा बना रहे इसके लिए पहल कर रही है.

बावजूद इसके कुछ पुलिसवाले खुद को सिंघम समझते हैं. वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि कुछ पुलिसकर्मी रात के वक्त एक आदमी को रास्ते पर पटकर लात और घूंसे से पिटाई कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: गुजरात: कोरोना से प्रभावित इलाकों का भ्रमण करेगा ‘कोविड विजय रथ’

 

वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने दी सफाई surat police

डिंडोली पुलिस स्टेशन के पुलिस इंस्पेक्टर एमएम चौहान ने इस सिलसिले में जानकारी देते हुए कहा कि “जिस आदमी की पिटाई की जा रही है वह कोई राहदारी नहीं है. वह आदमी अपनी पत्नी के साथ मारपीट कर रहा था.

उसकी पत्नी ने 100 नंबर पर फोन कर शिकायत दर्ज कराई थी. पीसीआर से उसे पुलिस स्टेशन लाया जा रहा था इसी दौरान वह चलती गाड़ी में बाहर निकलने की कोशिश कर रहा था.

इस दौरान वह पुलिसकर्मियों से झगड़ा कर रहा था. इसीलिए पुलिस के जवाब उसके साथ सख्ती से पेश आ रहे थे. आरोपी को पुलिस स्टेशन लाकर कानूनी कार्रवाई की जा रही है.

पुलिस के इस कार्रवाई पर उठ रहे हैं सवाल surat police

उल्लेखनीय है कि एक तरफ पुलिस अपने इलाके में होने वाले अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए दिन-रात काम कर रही है. वहीं दूसरी ओर कुछ पुलिसकर्मी आरोपियों की सार्वजनिक रूप पिटाई कर पुलिस की छवि को धूमिल कर रहे हैं.

सूरत के डिंडोली इलाके का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस प्रशासन पर तरह-तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं.

क्या पुलिस किसी भी व्यक्ति या अपराधी को इस तरह से सार्वजनिक रूप से मार सकती है? पुलिस द्वारा सार्वजनिक रूप किसी की पिटाई करना कितना उचित है?

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

गुजरात पुलिस सिंघम फोबिया से पीड़ित, बढ़ती ज्यादतियों से लोग परेशान