Gujarat Exclusive > गुजरात > सूरत: रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वाले 2 आरोपी गिरफ्तार

सूरत: रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वाले 2 आरोपी गिरफ्तार

0
230

सूरत: ऑक्सीजन, कोरोना वैक्सीन के बाद कोरोना इलाज में कारगर रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कमी गुजरात में दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है. surat Remdesvir injection black market seller

अहमदाबाद और सूरत शहर में गंभीर रूप से बीमार कोरोना रोगियों की संख्या बढ़ रही है. ऐसे कोरोना संक्रमित मरीजों के रिश्तेदारों को इंजेक्शन के लिए घंटों लाइन में खड़े होने के बावजूद इंजेक्शन नहीं मिल रहा है. surat Remdesvir injection black market seller

कई जिलों में इंजेक्शन की काला बाजारी का मामला सामने आ चुका है. ऐसे ही एक मामले में सूरत क्राइम ब्रांच की टीम ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया है.

रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कमी के बीच कालाबाजारी surat Remdesvir injection black market seller

सूरत क्राइम ब्रांच ने शैलेश-नितिन नामक दो लोगों को गिरफ्तार किया है. आरोपी भाई जो मिलकर रेमडेसिवीर इंजेक्शन का काला कारोबार कर रहे थे.

क्राइम ब्रांच की टीम ने आरोपियों के पास से 12 इंजेक्शन भी जब्त किया है.

सूरत क्राइम ब्रांच ने 2 आरोपियों को किया गिरफ्तार surat Remdesvir injection black market seller

सूरत के डीसीबी पुलिस स्टेशन के अधिकारियों को गुप्त जानकारी हाथ लगी थी कि विजय मेडिकल में कुछ लोग आर्थिक लाभ के लिए बिना पास परमिट के कोरोना मरीजों के रिश्तेदारों को रेमडेसिवीर इंजेक्शन तय दाम से ज्यादा पैसे पर बेच रहे हैं.

जानकारी हाथ लगने के बाद पुलिस ने आरोपियों को रंगे हाथ गिरफ्तार करने के लिए डमी ग्राहक तैयार कर मौके पर भेजा. surat Remdesvir injection black market seller

जानकारी पुख्ता होने के बाद पुलिस ने रेड कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया.

प्रारंभिक जांच के दौरान आरोपी विवेक धामेलिया ने नित्या मेडिकल स्टोर से 670 रुपये की कीमत पर सिविल अस्पताल में भर्ती कोविड मरीज के आधार कार्ड पर लिया था. surat Remdesvir injection black market seller

आरोपी कोरोना को मात देने वाले लोगों का इस्तेमाल कर उनके आधार कार्ड पर इंजेक्शन लेते थे. पुलिस ने फिलहाल आरोपियों को गिरफ्तार कर आगे की कार्रवाई कर रही है.

गुजराती में ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अहमदाबाद में सेल्फ लॉकडाउन, व्यापारियों ने स्वैच्छिक बंद रखी दुकानें